उत्तराखंड: स्मार्ट सिटी के काम बने मुसीबत, DM ने कसे इनके पेंच

देहरादून: जिलाधिकारी डॉ. आर राजेश कुमार स्मार्ट सिटी के तहत संचालित हो रहे कार्यों को लेकर अधिकारियों और निर्माण करा रही कार्यदायी संस्थाओं को कड़े निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि सड़क खुदाई कार्यों के दौरान खुदाई वाले क्षेत्र में भरान के पश्चात कार्यस्थल से मलबा नहीं हटाया गया है। जिससे दुर्घटना की सम्भावना बनी रहती है।

डीएम ने कहा कि हाल ही में निर्माणाधीन कार्यस्थलों पर भरान कार्य की गुणवत्ता संतोषजनक न होने और मलबा अव्यवस्थित रूप से फैले होने की शिकायतें लगातार सामने आ रही हैं, जिसके चलते आम लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। कई लोग इसके चलते दुर्घटनाओं में गम्भीर रूप से चोटिल भी हुए हैं, जिसको लेकर स्थानीय स्तर पर जनमानस में भारी आक्रोश देखने को मिला है।

उन्होंने निर्देश दिए कि भविष्य में इसकी पुनरावृत्ति न हो और आवागमन सुगम व सुरक्षित रहे, इसके लिए जल्द सुधारात्मक कार्य किए जाएं। जिलाधिकारी ने समस्त विभागीय और स्मार्ट सिटी परियोजना के संबंधित कार्यदायी संस्थाओं एवं ठेकेदारों को निर्देशित/आदेशित किया है कि सड़क खुदाई कार्य के दौरान भरान कार्य की उच्च गुणवत्ता के साथ-साथ अवशेष मलवा का भी तत्काल निस्तारण सुनिश्चित करें।

उन्होंने स्पष्ट किया कि यदि किसी स्थान पर भरान कार्य की गुणवत्ता खराब व अनावश्यक रूप से मलबा पाया जाता है तो संबंधित के विरूद्ध सुसंगत अधिनियमों के अन्तर्गत कार्रवाई अमल में लायी जायेगी। उन्होंने अधीक्षण/अधिशासी अभियन्ता, लोनिवि/पेयजल निगम/जल संस्थान/सिंचाई/लघु सिंचाई/पीएमजीएसवाई/राष्ट्रीय राजमार्ग सहित मुख्य महाप्रबन्धक (तकनीकी) देहरादून स्मार्ट सिटी लिमिटेड को आदेशों का कड़ाई से अनुपालन करवाने के निर्देश दिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here