उत्तराखंड : बच्चों पर कोरोना का अटैक, ये आंकड़े देख बढ़ जाएगी टेंशन!

देहरादून: सरकार ने स्कूल खोलने का ऐलान कर दिया है। एसओपी भी जारी हो चुकी है। कोरोना के कारण प्राथमिक स्कूल बंद थे, लेकिन अन्य राज्यों में स्कूल खुलने के बाद अभिभावकों को बच्चों की सुरक्षा की चिंता सता रही है। राज्य में अब 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चे कोरोना की चपेट में आ रहे हैं। सितंबर से लेकर अब तक प्रदेश भर में मिले कुल कोरोना पॉजिटिव मरीजों में से 19 प्रतिशत बच्चे हैं। उनकी संख्या 30 से 39 आयुवर्ग के बाद दूसरे नंबर पर सबसे अधिक है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार राज्य में सितंबर के 16 दिनों में 354 लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है। इनमें सबसे ज्यादा 79 रोगी 30-39 आयु वर्ग के हैं। दूसरे नंबर पर शून्य से 19 वर्ष के 68 मरीज हैं। 20-29 आयु वर्ग के लोगों में कोरोना के मामलों में अब कमी आई है। इस बीच महज 63 लोगों में कोरोना का संक्रमण पाया गया है। जबकि पूर्व तक इसी आयु वर्ग में कोरोना के सबसे अधिक मामले सामने आ रहे थे।

पहले अपेक्षा अब शून्य से 19 वर्ष आयु वर्ग में कोरोना संक्रमण के अधिक मामले सामने आ रहे हैं। पिथौरागढ़ में भी पिछले दिनों बीते दिनों इस आयु वर्ग के कई स्कूली बच्चे संक्रमित पाये गए हैं। कोरोना राज्य में शून्य से नौ वर्ष तक के बच्चों को अपनी चपेट में ले रहा है। उत्तराखंड कोविड टास्क फोर्स की सदस्य और राजकीय मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी की एसोसिएट प्रोफेसर (पीडियाट्रिक) डॉ.ऋतु रखोलिया का कहना है कोरोना संक्रमण के लिहाज से बच्चों के लिए यह बेहद नाजुक समय है।

सीमांत जनपद में बीते 20 दिनों में सात स्कूली बच्चों में कोरोना की पुष्टि हुई है। धारचूला में अगस्त के आखिरी सप्ताह में चार स्कूली बच्चे संक्रमित पाये गए थे। बीते दिनों नगर के एक निजी स्कूल में तीन छात्र कोरोना संक्रमित मिले। स्वास्थ्य विभाग ने खतरे को देखते हुए 250 से अधिक स्कूली बच्चों के सैंपल जांच को लिए थे। पिथौरागढ़ सीएमओ डॉ.एचसी पंत ने बताया कि जनपद में बीते दिनों सात बच्चों में कोरोना की पुष्टि हुई है। इनमें चार धारचूला क्षेत्र के और तीन बच्चे पिथौरागढ़ शहर क्षेत्र के हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here