उत्तराखंड : आज भी ताजा हैं मसूरी गोली कांड के जख्म, राज्य आंदोलनकारियों पर पुलिस ने बरसाईं थी गोलियां

मसूरी: राज्य बने 21 साल हो गए हैं। उत्तराखंड आंदोलन से बना राज्य है। ऐसा राज्य जिसे पाने के लिए राज्य आंदोलनकारियों ने अपने प्राणों की बाजी तक लगा दी। उसी राज्य के लिए आज से ठीक 27 साल पहले मसूरी में गोली कांड हुआ था। पुलिस बर्बता दिखाते हुए मौन जुलूस निकाल रहे लोगों पर गोलियां बरसा दी थीं।

दो सितंबर का दिन मसूरी के इतिहास का काला दिन माना जाता है। दो सितंबर 1994 को राज्य आंदोलनकारियों पर पुलिस ने गोलियां चला दीं थी, जिसमें 6 लोगों सहित एक पुलिस अधिकारी भी शहीद हो गए थे। राज्य आंदोलनकारियों का कहना है कि मसूरी गोलीकांड के जख्म आज भी ताजा हैं। भले ही हमें अलग राज्य मिल गया हो, लेकिन शहीदों को सपने आज भी अधूरे हैं।

मसूरी गोलीकांड की 27वीं बरसी है, लेकिन राज्य आंदोलनकारी पहाड़ का पानी, जवानी और पलायन रोकने की मांग लगातार कर रहे हैं। राज्य आंदोलनकारियों को कहना है कि उनके सपनों का उत्तराखंड आज भी नहीं बन पाया है। उन्होंने जो सपने उत्तराखंड के लिए देखे तो आज भी अधूरी हैं।

मूसरी में खटीमा गोलीकांड का विरोध किया जा रहा था। दो सितंबर 1994 को आंदोलनकारी मसूरी में गढ़वाल टैरेस से जुलूस लेकर उत्तराखंड संयुक्त संघर्ष समिति के कार्यालय झूलाघर जा रहे थे। इस दौरान पुलिस ने आंदोनकारियों को रोक लिया और उन लाठी-डंडों के साथ गोलियां चलानी शुरू कर दीं थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here