उत्तराखंड: भू-धंसाव से इन गांवों पर मंडरा रहा खतरा, सड़क हो चुकी ध्वस्त

रुद्रप्रयाग: रुद्रप्रयाग जिले की सिलगढ़ पट्टी के कुरछोला गांव के निकट भू-धंसाव से तैला-कुरछोला-चोपड़ा मोटरमार्ग क्षतिग्रस्त हो गया है। भूस्खलन से काश्तकारों की खेती को भी नुकसान पहुंच रहा है। वहीं, आवासीय भवनों और गोशाला को भी खतरा हो गया है। तैला-कुरछोला-चोपड़ा मोटरमार्ग पर सफर करना खतरे से खाली नहीं है।

इस मार्ग पर कुरछोला गांव के निकट भू-धंसाव हो रहा है। धीरे-धीरे जमीन धंस रही है। मार्ग पर हल्के वाहन जोखिम में चल रहे हैं। भारी वाहनों के लिए मार्ग अवरुद्ध है। जबकि इस मार्ग से चोपड़ा, पूलन, सिरवाड़ी सहित कई गांव में जुड़े हुए हैं।

उत्तराखंड क्रांति दल के युवा नेता मोहित डिमरी ने भूस्खलन प्रभावित क्षेत्र का मौका मुआयना किया। उन्होंने कहा कि जल्द यहां पर सुरक्षात्मक उपाय नहीं किये गए तो, सड़क पूरी तरह धंस सकती है। इससे पहले कि कोई बड़ी घटना हो, लोक निर्माण विभाग को इसके ट्रीटमेंट का काम शुरू कर देना चाहिए। उन्होंने जिलाधिकारी और लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को भी सड़क की हालिया स्थिति से अवगत कराया।

ग्राम प्रधान मनीष पंवार औरं सामाजिक कार्यकर्ता दीपक रावत का कहना है कि इस सम्बंध में विभाग को अवगत कराने के बावजूद सड़क के सुरक्षात्मक कार्य शुरू नहीं किए गए हैं। उन्होंने कहा कि गांवों तक बड़े वाहन भी नहीं पहुंच पा रहे हैं। लगातार बारिश लैंडस्लाइड का खतरा और बढ़ गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here