उफ्फ। बैंक कर्मियों ने ही कर दी धोखाधड़ी, बुजुर्ग महिला के खाते से खरीद डाला 30 लाख का सोना

uttarakhand stf arrested bank employees for forgery

 

उत्तराखंड एसटीएफ ने एक ऐसा खुलासा किया है जिसे सुन कर आप भी परेशान हो जाएंगे। आमतौर पर बैंकों में अपनी पूंजी रखकर आप इस उसे सुरक्षित मान लेते हैं लेकिन एसडीएफ (Uttarakhand STF) ने धोखाधड़ी के मामले में तीन बैंक कर्मियों को ही हिरासत में लेकर सभी की चिंताएं बढ़ा दीं हैं।

दरअसल उत्तराखंड पुलिस को हाल ही में एक शिकायत मिली थी। हरबर्टपुर के रहने वाले एक व्यक्ति ने पुलिस को बताया कि उनकी मां का सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया में बैंक अकाउंट है। शख्स ने बताया कि उसकी मां के बैंक अकाउंट से लिंक मोबाइल नंबर को बदल दिया गया है और मां के खाते से 30 लाख रुपए की धोखाधड़ी भी हो गई है।

पुलिस ने मामला दर्ज कर साइबर और एसटीएफ को मामला सौंपा। मामला चूंकि बेहद संगीन था लिहाजा जांच पूरी रफ्तार से शुरु हई। पुलिस ने बैंक अकाउंट ट्रांजेक्शंस, ईवॉलेट, ईमेल, खंगालने शुरु किए। इसी दौरान पुलिस ने SMS ALERT के लिए दिए गए मोबाइल नंबर के बदले जाने की रिक्वेस्ट के बारे में जानकारी लेनी शुरु की।

उत्तराखंड। बच्ची को लगा दिया गत्ते का प्लास्टर, सोशल मीडिया नेताओं पर टूट पड़ा

बस एसटीएफ को यहीं से सुराग मिलने शुरु हो गए। पता चला कि सेंट्रल बैंक में ही काम करने वाले एक कर्मचारी निश्चर राठौर ने बड़े ही शातिराना तरीके से बैंक के सिस्टम में SMS ALERT के लिए दर्ज मोबाइल नंबर को बदल दिया। इसके बाद बैंक के ही दो अन्य कर्मचारियों के साथ मिलकर ऑनलाइन सोना (Online Gold) खरीदा और पेमेंट के लिए उसी खाते का इस्तमाल किया। चूंकि एसएमएस अलर्ट का नंबर बदल चुका था लिहाजा खाताधारक को पता ही नहीं चला। आमतौर पर ये तीनों ऐसे खातों को निशाना बनाते थे जिनमें लंबे समय से कोई एक्टिविटी न हो रही हो।

फिलहाल एसटीएफ को जब इलेक्ट्रानिक्स एविडेंस मिल गए तो उसने निश्चल राठौर को दिल्ली के करोल बाग से गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद उसी की निशानदेही पर सेलाकुईं और विकासनगर से दो अन्य बैंक कर्मचारियों को भी गिरफ्तार कर लिया गया। एसटीएफ इस बात की भी पूछताछ कर रही है कि कहीं कुछ अन्य बैंक कर्मी तो इनके गिरोह में शामिल न हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here