उत्तराखंड: जुम्मा गांव में रोका गया सर्च और रेस्क्यू अभियान, दो लापता लोगों का नहीं चला पता

पिथौरागढ़: पिथौरागढ़ जिले के जुम्मा गांव में भीषण भूस्खलन में 7 घर मलबे में दब गए थे। मलबे में सात लोगों की दबने से मौत हो गई थी। उनमें से पांच लोगों के शव बरामद कर लिए गए थे, लेकिन दो लोगों को पता नहीं चल पाया। उनको खोजने के लिए रेस्क्यू जारी था, लेकिन अब अभियान को रोक दिया गया है।

पिथौरागढ़ में बादल फटने के कारण 7 व्यक्ति दब गए थे। जिनमें से संजना, रेनू, शिवानी, सुनीता के शव को 30 अगस्त को ही बरामद कर लिया गया था। जबकि घायल नरसिंह और द्रोपती को स्वास्थ्य केंद्र धारचूला भेजा गया। तीन व्यक्ति चंदन सिंह, हाजिरी देवी और पार्वती देवी लापता थे।

31 अगस्त को को रेस्क्यू के दौरान पार्वती देवी का शव भी बरामद कर लिया गया। शेष लापता व्यक्तियों की खोज और बचाव के लिए रेस्क्यू जारी था। लेकिर अब रेस्क्ूयू को रोक दिया गया है। रेस्क्यू कार्य में पुलिस टीम, 14 फायर सर्विस कर्मी, एसडीआरएफ, एनडीआरएफ और एसएसबी की टीमें शामि रहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here