उत्तराखंड : भव्य और दिव्य होगा माघ मेला, बैठक में लिए ये फैसले


उत्तरकाशी: कोरोना महामारी के कारण पिछले सालों उत्तराकाशी का प्रसिद्ध और पौराणिक माघ मेला नहीं हो सका था। इस मेले का आयोजन जिला पंचायत कराती है। लेकिन, इसमें नगर पालिका परिषद की भी अहम भागीदारी होती है। मेले के आयोजन को लेकर जिला पंचायत अध्यक्ष दीपक बिजलवाण की अध्ययक्षता में बैठक का आयोजन किया गया।

उन्होंने कहा कि इस बार माघ मेला पूरी भव्यता के साथ आम जनता के सहयोग से जिला जिला पंचायत आयोजित करेगी। अध्यक्ष दीपक बिजल्वाण ने कहा कि माघ मेला केवल जिला पंचायत का मेला नहीं है, बल्कि पूरे जिले का मेला है। उन्होंने कहा कि यह हमारे प्राचीन सांस्कृतिक संरक्षण की एक धरोहर है। यहां हरि महाराज का ढोल और कंडार देवता की देव डोली के सानिध्य में माघ मेले का आयोजन मकर संक्रांति से शुरू होता है।

उन्होंने बताया कि आगामी 14 जनवरी से 22 जनवरी तक माघ मेले का आयोजन किया जाएगा। इसमें विभिन्न सांस्कृतिक दलों के साथ ही विभिन्न विभागों के स्टॉल भी लगाए जाएंगे। इस मौके पर नगर पालिका अध्यक्ष रमेश सेमवाल ने बताया कि नगर क्षेत्र में लगने वाला माघ मेला नगर पालिका को दिया जाना चाहिए था।

उन्होंने कहा कि माघ मेले में नगर पालिका के सभासद और संपूर्ण स्टॉप एक अतिथि की भूमिका मे न रह करके। एक आयोजक बनकर रहेगा। इस मौके पर व्यापार मंडल और विभिन्न सामाजिक कार्यकर्ताओं ने अपने सुझाव भी दिए हैं।

बैठक में पुलिस उपाअधीक्षक हिरा लाल बिजल्वाण, जिला विकास अधिकारी, अपर मुख्य अधिकारी संजय कुमार जिला पंचायत उत्तरकाशी, जिला पंचायत सदस्य मनीष राणा, मनोज मिनान, शशि कुमाई, मधु भटवान, रविंद्री देवी, सहित जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि विपिन थपलियाल, राजेंद्र, सुनिल रौतेला, तोता लाल, व्यापार मंडल अध्यक्ष रमेश चौहान आदि मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here