उत्तराखंड की बहादुर महिला : बाघ के हमले को ऐसे किया नाकाम, अपनी जान बचाकर भागा आदमखोर

पौड़ी गढ़वाल : पहाड़ी जिलों के लोग बाघ के आतंक के साए में जी रहे हैं। गांव वालों के मन में एक ही सवाल है कि अगर वो घास लेने नहीं गए तो उनके पशु क्या खाएंगे और इसी मजबूरी में महिलाओं को घास के लिए जंगल जाना पड़ता है जहां बाघ घात लगाए बैठे हैं औऱ अब तक कइयों की जान ले चुके हैं औऱ कइयों को घायल करच चुके हैं। बात करें पौड़ी की तो वहां कई जगहों परबाघ के हमले की घटनाएं सामने आ चुकी है।
ताजा मामला आज पौडी गढ़वाल विकास खण्ड एकेशवर ग्राम इसोटी का है जहां घास लेने जंगल गई सावीत्री देवी (उम्र 51) पर घात लगाए बैठे बाघ ने हमला कर दिया। घटना सुबह 9:00 बजे  की है। एक आदमखोर बाघ ने उन सवित्री पर हमला किया लेकिन उसने हार नहीं मानी औऱ बहादुरी दिखाते हुए दंराती से बाघ पर वार किया जिससे बाघ डर से भाग गया लेकिन पीडि़ता के हाथ औऱ पांव में दांत मार कर बाघ महिला को जख्मी कर गया।
गांव वालों में वन विभाग के खिलाफ रोष है। उनका कहना है कि सरकार या तो इन बाघों को मराने के आदेश दे या फिर गाँव में कई लोग और रिटायर्ड फौजी भाई है जिनके पास लाइन्सेस बन्दूकें हैं सरकार उन्हें आदेश करें। लोगों का कहना है कि सरकार कोई सुध नहीं ले रही है सिर्फ वादे करती है। अगर सरकार यहाँ के लोगो की सुरक्षा के लिये कोई कडे कदम नही उठाती है तो हमे मजबूरन अपनी आवज को सरकार के कान खोलने के लिये मुख्यमंत्री आवस का घेराव करना पडेगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here