जोशीमठ : जहां पैदल जाना भी मुश्किलों भरा वहां साइकिल से पहुचेंगे सोमेश पंवार

जोशीमठ : पाँडुकेश्वर के सोमेश पंवार फिर चले अपने एक और दुरूह “सतोपंथ स्वर्गा रोहणी साइकिल अभियान” पर। जिस 30 किलोमीटर के सत्य धर्म पथ सतोपंथ धाम के दर्शन के लिए लोग जान जोखिम में डाल पैदल यात्रा कर पाते, वहाँ पहली बार सोमेश साइकिल से पहुचेंगे। देश के अंतिम पर्यटन गाँव माणा से कन्याकुमारी तक की सफल नशा मुक्ति जागरूक यात्रा के बाद एक बार फिर “बोल भगवान बदरी विशाल की जय”के उद्घोष के साथ सीमांत जोशीमठ प्रखण्ड के पाँडुकेश्वर गाँव के युवा एडवेंचर साईकिलिस्ट एक बार फिर से अपनी साइकिल यात्रा को एक बड़ा रूप देने हेतु आज से बदरीनाथ धाम से 15,000 फिट पर धर्म पथ सतोपंथ स्वर्गा रोहणी शिखर की दुर्गम बिकट साइकिल अभियांन यात्रा पर निकले हैं।

आज भगवान बदरी विशाल के श्री चरणों से सोमेश ने अपनी इस साइकिल यात्रा सतोपंथ स्वर्गारोहिणी जैसे अद्वितीय स्थान पर जहाँ भगवान ब्रह्मा, विष्णु एवं महेश त्रिदेवों के पवित्र स्थान सतोपंथ सरोवर तक साईकल यात्रा कर सम्पूर्ण विश्व को वैश्विक महामारी कोरोना से निजात दिलाने की प्रार्थना करेंगे ताकि पुनः विश्व मे शांति व अमन सौहार्द स्थापित हो। बदरीनाथ धाम से 30 किमी की दुरूह चढ़ाई और ग्लेशियरों को साइकिल से पार कर लक्ष्मीवन,चक्रतीर्थ,सहस्त्र धारा जैसे उच्च हिमालयी पड़ावों को पार कर 15000 फीट की ऊंचाई पर स्थित पवित्र देव सरोवर सतोपंत स्वर्गारोहनी पहुचेंगे। ये वह स्थान है जहाँ भगवान बदरी विशाल जी की कृपा से आज तक कोई भी साइकिल लेकर नहीं किया है तो यह पहला मौका सोमेश पंवार को प्राप्त हो रहा है भगवान श्री नारायण जी से हम भी प्रार्थना करते हैं कि सोमेश जैसे कर्मशील युवा एडवेंचर साईकिलिस्ट की इस रोमांच से भरी यात्रा को सफल बनाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here