उत्तराखंड : हरदा बोले-केदारनाथ आएं पर राजनीति के लिए मार्केटिंग ना करें PM मोदी

देहरादून: पूर्व सीएम हरीश रावत ने प्रधनमंत्री नरेंद्र मोदी के केदारनाथ दौरे पर एक बार फिर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री केदारनाथ पधारें, बार-बार पधारें यह उनकी श्रद्धा का विषय है। मगर केदारनाथ के नाम पर राजनीति की मार्केटिंग का उत्तर तो देना पड़ेगा। मैं क्षमा चाहता हूं, भगवान केदारनाथ जी से इन 5 वर्षों में काम प्रारंभ न हो पाए, मगर अति आवश्यक कार्यों के लिये जो केदारनाथ में संपन्न होने चाहिए थे।

आज की सत्ता ने राजनैतिक लाभ उठाने का प्रयास तो किया, मगर उन विकास कार्यों को अंजाम नहीं दिया, जो केदार पुरी की सुरक्षा और सुगमता के लिए आवश्यक हैं। हरदा ने अपनी पोस्ट में लिखा है कि सुमेरु पर्वत के नीचे के प्रखंड से लेकर चौराबाड़ी तक प्रोटेक्शन ब्लॉक्स बनाकर ग्लेशियर फटने की स्थिति में संभावित बाढ़ से सुरक्षा की एक अति महत्वपूर्ण लेयर का निर्माण नहीं हुआ, जो हमारी कांग्रेस सरकार में प्रस्तावित थी। न मंदाकिनी नदी से केदार पुरी का तल्ली लिंचोली तक हो रहा भू-क्षरण रोकने के प्रोजेक्ट पर काम हुआ और न भैरव मंदिर जिस पहाड़ी पर स्थित है।

उस पहाड़ी में हो रहे क्षरण को रोकने पर कोई काम हुआ, न गौरी कुंड के पुराने इतिहास को पुनर्स्थापित करने पर प्रस्तावित काम प्रारंभ हो पाया। भीमबली-लिंचोली-केदार पुरी रोपवे और चौमासी मोटर मार्ग का निर्माण, इन कामों की भी हमारी सरकार ने डीपीआर तैयारकर भारत सरकार के पास थी, मगर अभी तक मंजूर नहीं हुई और प्रधानमंत्री द्वारा घोषित गरुड़ चट्टी होकर जाने वाले वैकल्पिक केदार पुरी मार्ग का निर्माण भी प्रारंभ नहीं हुआ।

5 नवंबर को मैंने उत्तराखंड कांग्रेस के अध्यक्ष से आग्रह किया है कि हम केदारनाथ के जल और गंगाजल से राज्य के प्रत्येक जनपद में 12 शिवालयों में जलाभिषेक करें और और जय-जय-केदारा का जो भजन गीत हमारे कार्यकाल में तैयार करवाया गया था, कैलाश खेर जी के माध्यम से उसको गाएं और इन अधूरे कामों को आगे बड़ा सकने की शक्ति हमें मिले।

उसके लिए भगवान केदारनाथ का स्मरण करें। हमारे शिवालय ही, हमारे ज्योतिर्लिंग हैं। देश के विभिन्न अंचलों पर फैले हुये ज्योतिर्लिंगों की आभा स्वतरू हमारे शिवालयों में विद्यमान हो जाती है, इसलिये अपने-अपने क्षेत्र के शिवालयों को जलाभिषेक से प्रणाम कर कांग्रेसजन, शिवलिंगों को अभिभूषित करें, ऐसी मेरी कामना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here