देहरादून ब्रेकिंग : नाबालिक 150 रुपए में ऑनलाइन तैयार करता था आहूजा लैब के हूबाहू rt-pcr रिपोर्ट, SOG ने उचित कार्रवाई करते हुए परिजनों को सौंपा

देहरादून : देहरादून एसओजी टीम को फर्जी rt-pcr रिपोर्ट तैयार करने वाले नाबालिक लड़के को पकड़ने में कामयाबी हासिल हुई है जोकि 12वीं का छात्र है। साथ ही एसओजी की टीम ने उसके पास से उपकरण और दस्तावेज भी बरामद किए हैं। वहीं पकड़े जाने के बाद नाबालिग लड़के ने पुलिस टीम से माफी मांगी और भविष्य में फिर दोबारा ऐसा काम ना करने का विश्वास दिलाया जिसके बाद टीम ने उचित कार्रवाई करते हुए उसे परिजनों को सुपुर्द कर दिया।

कोविड महामारी के दौरान उपकरणों की कालाबाजारी-फर्जीवाडे़ की रोकथाम के लिए जिले में अलग- अलग टीमें बनाकर सघन अभियान चलाया जा रहा है। अभियान के क्रम में पुलिस अधीक्षक नगर और क्षेत्राधिकारी मसूरी के निकट पर्यवेक्षण में और एसओजी प्रभारी निरीक्षक के नेतृत्व में एसओजी टीम ने बीते कल दिन 10 जून को कोरोना टजस्ट की फर्जी RT-PCR रिपोर्ट व अन्य दस्तावेज और उपकरणों सहित नाबालिग को इन्द्रेश नगर, लक्ष्मण चौक से हिरासत में लिया, जिसे बाद आवश्यक कार्यवाही करके उसके परिजनों के सुपुर्द किया गया।

उक्त सम्बन्ध में कोतवाली नगर में विधि विवादित किशोर के विरूद्ध धारा 420, 468, 471 भादवि व 53 एन0डी0एम0 एक्ट व 3 महामारी अधिनियम में अभियोग पंजीकृत कराया गया है।

नाबालिक 12वीं का छात्र

पूछताछ में नाबालिग ने बताया कि वो 12 कक्षा का छात्र है और मोबाईल/लैपटाप की दुकान पर काम करता है। उसे मोबाईल की अच्छी जानकारी है। मैनें अपनी जानकारी का फायदा उठाते हुए मोबाईल में Picsart और Adovbe light room व अन्य ऐप डाउनलोड किये थे और देहरादून में स्थित आहूजा लैब की ऑनलाइन RT-PCR रिपोर्ट को निकाल कर उक्त ऐप के माध्यम से आहूजा लैब की असली रिपोर्ट को एडिट कर पहले मैने अपने नाम की एक फर्जी RT-PCR निगेटिव रिपोर्ट तैयार की और फिर जरूरत मंद ग्राहकों को अपनी फर्जी रिपेार्ट दिखाकर यकीन दिलाता था कि मैं बिना सैम्पल के ही आहूजा लैब की RT-PCR टैस्ट की निगेटिव रिपोर्ट तैयार करता हॅू। ऐसे मेरे साथ कई ग्राहक जुड़ गये थे जिन्हें मैनें आहूजा लैब की फर्जी RT-PCR टैस्ट की निगेटिव रिपोर्ट तैयार कर ग्राहकों का उपलब्ध करायी है जिसके एवंज में मैं ग्राहकों से एक रिपोर्ट के 150 रूपये लेता था।

नाबालिग आरोपी ने बताया कि उसने थोड़े से पैसों के लालच में आकर यह फर्जी RT-PCR टैस्ट की निगेटिव रिपोर्ट का काम किया था। मैनें यह फर्जी काम पैसों के लालच में किया है। भविष्य में ऐसा कोई भी फर्जी काम नहीं करूगा।

एसओजी टीम
1. ऐश्वर्य पाल, प्रभारी निरीक्षक एसओजी देहरादून।
2. एसआई दीपक धारीवाल
3. का0 61 ललित
4. का0 21 देवेन्द्र कुमार
5. का0 147 किरण कुमार
6. का0 1130 पंकज
7. का0 1396 अमित कुमार
8. का0 विपिन कुमार
9. म0कानि0 1396 मोनिका

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here