उत्तराखंड: गंगा में बही बेटी, बचाने के कूद पड़े पिता और नानी, तीनों लापता

ऋषिकेश: गंगा नदी में हादसे लगातार हो रहे हैं। बावजूद लोग लापरवाही बरत रहे हैं। गंगा में आचमन के दौरान एक परिवार के तीन लोग बह गए। तीनों को अब तक कुछ पता नहीं चल पाया है। मामला सामेवार शाम को उस वक्त हुआ, जब परिवार के लोग गंगा में आचमन कर रहे थे।

जानकारी के अनुसार गुजरात से आया परिवार हादसे का शिकार हो गया। लक्ष्मणझूला क्षेत्र के गंगा और हेंवल नदी के संगम स्थल फूलचट्टी में गुजरात से आए परिवार के तीन सदस्य पिता, बेटी और नानी गंगा में डूब गए। तीनों को गंगा में डूबता देख परिवार के अन्य लोगों में चीख पुकार मच गई।

मौके पर पहुंची एडीआरएफ, लक्ष्मण झूला पुलिस और जल पुलिस ने आनन फानन बचाव अभियान शुरू किया, लेकिन अब तक तीनों का कोई सुराग नहीं मिल पाया है। लक्ष्मणझूला थानाध्यक्ष वीरेंद्र रमोला ने बताया कि गुजरात के राजकोट से एक परिवार के छह सदस्य ऋषिकेश घूमने आए थे। नीलकंठ मंदिर दर्शन करने के बाद सभी लोग फूलचट्टी की ओर घूमने चले गए।

परिवार के सभी लोग गंगा में आचमन करने रहे थे इस दौरान 18 साल की सोनल का पैर फिसल गया। बेटी को बचाने के चक्कर में उसके पिता भी अनिलभाई भी कूछ पड़े। दोनों बहता देख सानल की नानी तरुवेन भी गंगा के तेज बहाव में बह गई। तीनों के गंगा में बहने से परिजनों में कोहराम मच गया है। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। अंधेरा होने के कारण बचाव अभियान मंगलवार को भी जारी रहेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here