उत्तराखंड रोडवेज को एजेंसी से तगड़ा झटका, तोड़ा करार, वापस बुलाए चालक

देहरादून : उत्तराखंड रोडवेज पहले ही घाटे में चल रहा है और साथ ही रोडवेज चालकों की कमी से जूझ रहा है। ऐसे में रो़डवेज को एजेंसी ने तगड़ा झटका दिया है। बता दें कि आउट सोर्स एजेंसी ने तगड़ा झटका दे दिया है। जानकारी मिली है कि एजेंसी ने रोडवेज से अपना करार तोड़ दिया है और एजेंसी की ओर से उपलब्ध कराए चालकों को वापस करने को कहा है। आरोप है कि रोडवेज चालकों को न तो वेतन दे रहा और न ही उनका ईपीएफ जमा किया जा रहा है। इस कारण चालक एजेंसी में हंगामा कर रहे और संचालकों को परेशान कर रहे। एजेंसी ने 31 जुलाई तक अपनी सेवा देने की बात कही है।

रोडवेज के महाप्रबंधक संचालन दीपक जैन को भेजा पत्र

आपको बता दें कि 3 साल पहले सरकार के आदेश पर चालकों की कमी दूर करने के लिए रोडवेज ने आउट सोर्स के जरिये चालक भर्ती किए थे। जेड सिक्योरिटी सर्विसेज प्राइवेट लिमि. से रोडवेज प्रबंधन ने करार किया। एजेंसी ने 77 चालक रोडवेज को उपलब्ध कराए हुए हैं, जबकि जरूरत के अनुसार समय-समय पर अतिरिक्त चालक उपलब्ध कराती रहती है। बता दें कि एजेंसी ने प्रबंध निदेशक की ओर से रोडवेज के महाप्रबंधक संचालन दीपक जैन को पत्र भेजा है और सेवा देने में अस्मर्थता जताते हुए करार खत्म करने की बात कही है।

5000 रुपये की स्क्योरिटी राशि भी वापस मांगी

एजेंसी का आरोप है कि रोडवेज प्रबंधन ने उनके चालकों को फरवरी से अभी तक का वेतन नहीं दिया है। एजेंसी का आरोप है कि रोडवेज प्रबंधन ने अनुबंध के समय नवंबर-2019 से अब तक जीएसटी समेत नियोक्ता की ओर से 13 फीसद ईपीएफ में जमा किए जाने वाला अंशदान भी एजेंसी को उपलब्ध नहीं कराया। पिछले साल रोडवेज प्रबंधन ने चालकों को सांत्वना राशि देने का भरोसा दिया था, लेकिन वह भी नहीं दिया। एजेंसी का कहना है कि चालक रोज ऑफिस में आकर गाली-गलौज और हंगामा कर रहे। एजेंसी ने 31 जुलाई तक सेवा देने की बात कही है और रोडवेज से प्रति चालक एजेंसी की ओर से जमा की गई 5000 रुपये की स्क्योरिटी राशि भी वापस मांगी है।

रोडवेज महाप्रबंधक दीपक जैन ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि नई एजेंसी का चयन किया जा रहा है। तब तक पुरानी एजेंसी से काम करने का आग्रह किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here