हरदा बोले : शिक्षा का अर्थ केवल भाजपा के शिशु मंदिर तक सीमित, शिक्षा के भाजपाईकरण का और….

देहरादून : पूर्व सीएम हरीश रावत ने एक बार फिर से त्रिवेंद्र सरकार पर निशाना साधा। हरीश रावत ने सोशल मीडिया के जरिए एक बार फिर से भाजपा सरकार पर हमला किया और इस बार शिक्षा का मुद्दा उठाया। हरीश रावत ने निजी स्कूलों और सरकारी स्कूलों के मुद्दे को उठाते हुए राज्य सरकार को घेरा।

हरीश रावत की पोस्ट

हरीश रावत ने लिखा कि श्री त्रिवेंद्र सरकार, एक तरफ शिक्षा को प्रोत्साहन देने की बात करती है, अच्छी बात है। लेकिन शिक्षा का अर्थ केवल भाजपा के शिशु मंदिर तक सीमित हो गये हैं, इस कोरोनाकाल में प्राइवेट स्कूल जो शिशु मंदिर से इतर हैं, वो दोहरी मार झेल रहे हैं, एक तरफ सरकारी संरक्षण में शिशु मंदिरों को पनपाया जा रहा है और दूसरी तरफ जो प्राइवेट स्कूल्स हैं, जो किसी तरीके से अपना संचालन कर रहे हैं उनके आर्थिक स्रोतों को बंद किया जा रहा है और सरकार की तरफ से उनको कोई मदद नहीं दी जा रही है। मैं, राज्य के लोगों से अपील करना चाहता हूंँ कि यह एक खतरनाक खेल है, शिक्षा के भाजपाईकरण का और आप प्राइवेट स्कूलों की मदद के लिये आगे नहीं आएंगे तो फिर आपके बच्चों को वही पढ़ाया जायेगा जो भाजपा पढ़ाना चाहती है, तो सरकारी स्कूल हों या गैर भाजपाई शिक्षण संस्थाएं हों, उनको विवेकशील लोगों का संरक्षण मिलना चाहिये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here