वसीम रिजवी उर्फ जितेंद्र त्यागी की रिहाई की मांग को लेकर यति नरसिंहानंद का अनशन, त्यागा अन्न-जल

हरिद्वार : वसीम रिजवी उर्फ जितेंद्र त्यागी को बीते दिन पुलिस ने नारसन बॉर्डर से गिरफ्तार किया। वहीं रिजवी की रिहाई की मांग को लेक महामंडलेश्वर और धर्म संसद कोर कमेटी के सदस्य यति नरसिंहानंद ने अनशन शुरु कर दिया है। उन्होंने अन्न जल त्याग दिया है। अदालत से जमानत न मिलने पर यति नरसिंहानंद सर्वानंद घाट पहुंचे और अनशन पर बैठ गए। उनका कहना है कि जब तक रिजवी को रिहा नहीं किया जाता वह अनशन पर ही रहेंगे। उनके समर्थन में साधु संतों ने भी जुटना शुरु कर दिया है।

बता दें कि हरिद्वार में हुई धर्मसंसद में भड़काऊ भाषण देने के मामले में गुरुवार को हरिद्वार पुलिस ने यूपी शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी उर्फ जितेंद्र नारायण त्यागी गिरफ्तार किया। रिजवी के खिलाफ हरिद्वार कोतवाली में तीन अलग-अलग मुकदमें दर्ज है। इधर, रिजवी की गिरफ्तारी होने के साथ ही हरिद्वार पुलिस बेहद ही चौकन्नी हो गई है। दरआसल पिछली साल 17 से 19 दिसंबर को उत्तरी हरिद्वार के वेद निकेतन आश्रम में हुई धर्म संसद दुनिया भर में सुर्खियों में है। धर्म संसद में एक विशेष वर्ग को लेकर भड़काऊ भाषण देने के आरोप में यूपी शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी उर्फ जितेंद्र नारायण त्यागी के खिलाफ दो मुकदमें शहर कोतवाली में दर्ज किए गए थे। पिछले दिनों यहां पहुंचे आरोपी वसीम रिजवी एवं साध्वी अन्नपूर्णा को हरिद्वार कोतवाली पुलिस ने नोटिस भी थमाया था।

रिजवी के खिलाफ मुकदमें
वसीम रिजवी उर्फ जितेंद्र नारायण त्यागी के खिलाफ शहर कोतवाली में कुल तीन मुकदमें दर्ज है। एक मुकदमा उन पर तब दर्ज हुआ था, जब वसीम रिजवी ही था। तब रिजवी ने यहां अपनी विवादित पुस्तक का विमोचन प्रेस क्लब संस्था के सभागार में किया था, जिसे लेकर बड़ा विवाद हुआ था। किताब में पैगंबर साहब को लेकर अमर्यादित टिप्पणी की गई थी। फिर  यहां से लौटने के बाद अपना धर्म परिवर्तन कर लेने के बाद रिजवी की नई पहचान जितेंद्र नारायण त्यागी के तौर पर सामने आई थी। पिछले माह दिसंबर में हुई तीन दिवसीय धर्मसंसद में रिजवी उर्फ जितेंद्र नारायण त्यागी ने एक विशेष वर्ग को लेकर भड़काऊ भाषण दिया था, जिसकी गूंज पूरी दुनिया में सुनाई दी थी। इस संबंध में उनके खिलाफ दो मुकदमें मुस्लिम समाज ने दर्ज कराए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here