बांग्लादेश में पीएम मोदी का हिंसक विरोध, 4 लोगों की मौत और कइयों के घायल होन की खबर

बांग्लादेश की स्वतंत्रता के 50वीं वर्षगांठ पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल होने पहुंचे पीएम मोदी के दौरे का कट्टरपंथी संगठन ने जमकर विरोध कयिा। इस दौरान पुलिस के साथ हुई हिंसक झड़प में चार लोगों के मारे जाने की खबर है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसारा पीएम मोदी के दौरे का विरोध चटगांव और ढाका में ज्यादा हुआ है जिसको देखते हुए ढाका की सुरक्षा को भी बढ़ा दी गई है। बीबीसी बांग्ला की रिपोर्ट में एक पुलिसकर्मी के हवाले से दावा किया गया है कि चटगांव में सुरक्षाबलों के साथ हुई हिंसक झड़प में चार लोग घायल हो गए। जिन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया गया, लेकिन उन्होंने दम तोड़ दिया। ये लोग जुमे की नमाज के बाद चटगांव के हथाजरी मदरसे से निकले एक विरोध मार्च में शामिल थे। दावा किया गया है कि इस हिंसा में सैंकड़ों लोग घायल भी हुए हैं।

protest against pm narendra modi bangladesh visit, hefazat-e-islam 4 people killed in clash photos

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पुलिस ने पूरे ढाका में लोगों के प्रदर्शनों पर रोक का ऐलान किया हुआ है। हिफाजत ए इस्लाम नाम के एक कट्टरपंथी संगठन ने पहले ही पीएम मोदी के दौरे का विरोध करने का ऐलान किया था। रिपोर्ट में दावा किया जा रहा है कि उग्र भीड़ ने स्थानीय थाने में जमकर तोड़फोड़ की। उन्होंने पत्थरबाजी के बाद थाने को आग लगाने की कोशिश की जिसके बाद पुलिस ने सभी को खदेड़ा। दावा किया जा रहा है कि पुलिस ने फायरिंग की, जिसमें चार लोगों की मौत हुई है। हालांकि पुलिस को ओर से गोली चलाने को लेकर कोई जानकारी नहीं दी गई। पूरे इलाके को छावनी में बदल दिया गया है। भारी पुलिस फोर्स तैनात की गई है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार हिफाजत-ए इस्लाम के नेता ने बताया है कि प्रदर्शन के दौरान उनके कुछ समर्थकों की मौत हुई है, लेकिन उन्होंने भी संख्या को स्पष्ट नहीं किया है। चटगांव और ढाका में विरोध प्रदर्शनों को देखते हुए पूरे इलाके में पुलिस को अलर्ट कर दिया गया है।बांग्लादेश के हिफाजत-ए-इस्लाम जैसे कई इस्लामी कट्टरपंथी समूहों ने पीएम मोदी की ढाका में प्रवेश के खिलाफ प्रदर्शन करने की धमकी दी थी। जिसके बाद बांग्लादेश ने सुरक्षा व्यवस्था को और कड़ा कर दिया है। खुद प्रधानमंत्री शेख हसीना ने पीएम मोदी की यात्रा को बाधित करने की कोशिश करने वाले के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का आदेश दिया है। भारत और बांग्लादेश शुरू से ही एक दूसरे के सबसे बड़े सहयोगी रहे हैं। कभी-कभी रिश्तों में आई खटास को भी दोनों देशों ने बखूबी से दूर किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here