VIDEO : सलाखों के पीछे उत्तराखंड पुलिस के दो जवान, DGP बोले-दोनों मेरी रडार पर थे, दी चेतावनी

हरिद्वार : हरिद्वार में दो पुलिसकर्मियों को ड्रग्स तस्करों के साथ मिलीभगत के आरोप में गिरफ्तार किया गया और सलाकों के पीछे भेजा गया। इस मामले पर डीजीपी अशोक कुमार ने कहा कि मैनें डीजीपी की कुर्सी संभालने के बाद ही सभी पुलिसकर्मियों को चेतावनी दी थी कि किसी भी अपराधिक गतिविधियों में शामिल पुलिसकर्मियों को बख्शा नहीं जाएगा और इसी के तहत तस्करी में शामिल होने पर दो पुलिसकर्मियों पर सख्त कार्रवाई की गई। डीजीपी ने वीडियो जारी कर कहा कि सभी पुलिसकर्मी गरिमा के अनुरूप आचरण करें। कोई भी पुलिसकर्मी यदि किसी भी रूप में आपराधिक गतिविधियों में संलिप्त पाया जाता है, तो उसे बिल्कुल भी बक्शा नहीं किया जाएगा। ऐसे पुलिसकर्मियों के विरूद्ध कठोर कार्यवाही की जाएगी।

मामला हरिद्वार के ज्वालापुर कोतवाली का

आपको बता दें कि मामला हरिद्वार के ज्वालापुर कोतवाली का है जहां दो पुलिसकर्मी ड्रग्स तस्करों के साथ मिले पाए गए। जानकारी मिली है कि ज्वालापुर कोतवाली और नारकोटिक्स सेल में तैनात दो सिपाहियों को सस्पेंड कर दिया गया है और जेल भेजा गया है। दोनों पर तस्करों के साथ मिलकर पहले ही हर सूचना देने का आरोप है। शुक्रवार को ज्वालापुर कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ले में एसटीएफ देहरादून की टीम ने दबिश देते हुए चार तस्करों इरफान, सत्तार, गंगे और राहिल को गिरफ्तार किया था। उन्हें संरक्षण देने वाले ज्वालापुर कोतवाली में तैनात सिपाही अमजद और नारकोटिक्स सेल में तैनात सिपाही शाहिद राजा को भी गिरफ्तार किया गया था। दोनों सिपाहियों पर आरोप है कि दोनों की मिली भगत से ही ड्रग्स का धंधा चल रहा था। दोनों पुलिस की हर गतिविधि की जानकारी तस्करों को दे देते थे। जब भी थाना स्तर से कोई कार्रवाई होती। अमजद उन्हें सूचना देता था, जबकि जब भी एसटीएफ की कोई कार्रवाई होती थी तो एंटी ड्रग्स फोर्स में तैनात रईस राजा सूचना दे देता था। इसके लिए दोनों सिपाहियों को अच्छी-खासी रकम दी जाती थी।
कोतवाल लाइन हाजिर, नए कोतवाल को कमान
वहीं, इस मामले में ज्वालापुर कोतवाल प्रवीण सिंह कोश्यारी पर भी गाज गिरी है। उनको लाइन हाजिर करते हुए चंद्र चंद्राकर नैथानी को कोतवाली की कमान सौंपी गई है। वहीं, सीओ मंगलौर पूरे मामले की जांच करेंगे। मामले के खुलासे के बाद हरिद्वार एसएसपी डी सेंथिल अबूदई ने भी अपनी तरफ से कार्रवाई करते हुए ज्वालापुर कोतवाल प्रवीण सिंह कोश्यारी को लाइन हाजिर किया। वहीं, दोनों आरोपी पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर कोतवाली की कमान चंद्र चंद्राकर नैथानी को दी गई है।इस मामले की जांच मंगलौर सीओ पंकज गैरोला को सौंपी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here