उत्तराखंड: मोबाइल से बीपी और शुगर चेक करने वाले हो जाएं सावधान, मंडरा रहा ये खतरा

देहरादून: कोरोना महामारी के बीच भी साइबर ठग अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं। पहले ही परेशान लोगों को ठगी का शिकार बनाने के लिए हर दिन नया-नया आइडिया खोज रहे हैं। ऐसा ही एक तरीका और सामने आया है। पुलिस ने लोगों को आगाह करने के लिए सोशल मीडिया में पोस्ट की है। इसमें लोगों से ऑक्सीमीटर, शूगर लेवल और बीपी चेक करने वाले मोबाइल एप से सतर्क रहने के लिए कहा गया है।

कोरोना महामारी के इस दौर में ऑक्सीमीटर, शुगर, बीपी की जांच करने वाले उपकरणों की मांग बढ़ी है। होम क्वारंटीन मरीज इसे खरीद रहे हैं। उसे देखते हुए इंटरनेट पर साइबर ठग सक्रिय हैं। साइबर अपराधी जालसाजी के नए-नए तरीके ईजाद कर रहे हैं। अब जालसाज ओटीपी नंबर या अकाउंट की डिटेल मांगकर ठगी करने के साथ-साथ एप के जरिये ऑक्सीजन लेवल, शुगर, बीपी चेक करने के नाम पर भी लूटने लगे हैं। प्ले स्टोर पर कई थर्ड पार्टी एप और एडवरटाइजमेंट वाले एप उपभोक्ताओं को लालच में फंसाकर डाउनलोड कराए जा रहे हैं।

ऐसे में पुलिस ने अब लोगों को जागरूक करना शुरू कर दिया है। इसके लिए सोशल मीडिया पर पोस्ट डालकर लोगों से अपील की जा रही है। ऑक्सीमीटर से मिलते जुलते एप डाउनलोड करने के बाद उसे एक्टीवेट करने के लिए साइबर ठग फिंगरप्रिंट मांगते हैं। इससे बायोमीट्रिक डेटा ठगों के पास पहुंच जाता है। इसमें फोटो और डेटा चोरी होने का भी खतरा है। क्योंकि यह इंस्टालेशन के दौरान स्टोरेज और गैलरी की अनुमति मांगता है। उंगली बॉयोमेट्रिक्स के लिए रखते ही डेटा चोरी हो जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here