उत्तराखंड : आतंकवादियों से लड़ने वाले सैनिक ने सुनाई अफगानिस्तान में तालिबान के खौफ की कहानी

देहरादून : अफगानिस्तान में तालिबानियों ने कब्जा कर लिया है। हाथों में रायफल लिए तालिबानियों की फोटो वायरल हो रही हैं जिससे दुनिया भर के लोगों में खौफ पैदा हो गया है। अफगानिस्तान के लोग जान बचाने के लिए इधर-उधर भाग रहे हैं तो वहीं कई भारतीय लोग वहां फंसे हैं जो नौकरी करने काबुल गए थे. इनमे से कई उत्तराखंडी भी हैं, जो की काबुल में सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी कर रहे थे. इनमे से अधिकतर पूर्व सैनिक हैं, जिन्होंने सीमा पर आतंकियों की धूल चटाई लेकिन तालिबानियों के खौफ से वो आज भी सहमे हुए हैं. बीते दिनों कई उत्तराखंड के लोग वापस लौटे, जिनमे से सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी कर रहे पूर्व फौजी ने वहां के खौफनाक मंजर के बारे में बताया और उसकी आंखों में आंसू छलक उठे।

अफगानिस्तान मे सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी कर रहे थे देहरादून के वीरेंद्र गुरुंग

बता दें कि साल 2012 से अफगानिस्तान के हैरात में सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी करने वाले गढ़ी कैंट डाकरा निवासी वीरेंद्र गुरुंग 13 अगस्त को घर लौटे जो अफगानिस्तान में बिताए उन खौफ भरे दिनों को भूल नहीं पा रहे हैं। वीरेंद्र ने बताया कि उन्हें भी टेलीविजन और इंटरनेट से पता चला कि जहां वह रह रहे हैं, उससे सटे क्षेत्र तालिबानियों ने कब्जा लिए हैं। नेपाल और भारत के 30 से अधिक साथी कंपनी के ही किसी कमरे में थे और जब भी गोलियों की आवाज सुनाई देती, सभी जान बचाने की दुआ करते। फिर हम सभी ने कंपनी पर घर वापसी का दवाब बनाया, जिसके बाद कंपनी ने 10 अगस्त से कर्मचारियों को थोड़ी-थोड़ी संख्या में एयरपोर्ट पहुंचाना शुरू किया। काबुल एयरपोर्ट पर फ्लाइट के इंतजार में 4 दिन तक एक होटल में रुके रहे। इसके बाद जब काबुल से फ्लाइट मिली तो उसमें बैठे नागरिकों ने राहत की सांस ली। बताया कि अब घर में पत्नी और बच्चों के साथ खुश हूं।

गोर्खा रेजीमेंट से रिटायर पूर्व फौजी ने सुनाई आपबीती

चंद्रबनी के गौतम कुंड कालोनी निवासी विनेश मल्ला गोर्खा रेजीमेंट से 2008 में रिटायर हुए। इसके दो साल बाद काबुल में सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी कर ली। तब से वहीं थे। वह 16 जुलाई को घर लौटे। विनेश ने आपबीती सुनाते हुए बताया कि अमेरिकी सैनिकों की वापसी के साथ ही तालिबानियों के हौसले बुलंद होने लगे। जुलाई की शुरुआत से ही स्थिति और खराब होने लगी।

एक कमरे में 9 लोग 2 दिनों तक रहे- विनेश मल्ला

बताया कि कंपनी के कमांडर ने बाहर जाने से मना कर दिया था। ऐसे में एक कमरे में 9 लोग 2 दिनों तक रहे। होटल पास था तो खाने पीने की कमी नहीं थी। कंपनी के कमांडर के सख्त निर्देश थे कि बाहर जाओगे तो किडनैप हो जाओगे। इसलिए सब सतर्क हो गए और स्वदेश लौटने का इंतजार करने लगे थे। 14 जुलाई को काबुल एयरपोर्ट जाते समय भय बना हुआ था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here