उत्तराखंड: ‘पावर बैंक’ ने खाली किए खाते, कई राज्यों में जांच, अब तक 360 करोड़ की ठगी का खुलासा

उत्तराखंड एसटीएफ की ओर से पावर बैंक एप्प के जरिए रकम दोगुनी करने के नाम पर ढाई सौ करोड़ फ्रॉड के खुलासे के बाद देश के अन्य राज्यों की पुलिस भी हरकत में आ गई है। एसटीएफ के मुताबिक मामले में दिल्ली पुलिस ने 5 लोगों को और बेंगलुरु पुलिस ने 6 लोगों को गिरफ्तार किया है। इसमें से कुछ लोग उत्तराखंड के लोगों के साथ हुए फ्रॉड में शामिल है। साथ ही ठगी का नेटवर्क पता लगाने के लिए प्रदेश की एसटीएफ भी पकड़े गए लोगों से पूछताछ करने के लिए टीम बैगलोर जाएगी।

एसटीएफ की ओर से अभी तक 360 करोड़ की धोखाधड़ी का ब्योरा जुटाया गया है और मामले में जानकारी जुटाई जा रही है। मामले खुलासे के बाद अब देहरादून के कई लोग जिन्होंने इस एप्प के जरिए हजारो और लाखों रुपए गवा चुके है वह सब अब साइबर थाने में शिकायत दर्ज कराने आ रहे है,वही इस एप्प में अधिकतर नौजवान है जिन्होंने कम समय में अधिक रुपए कमाने के लालच में आकर अपने लाखों रुपए गवा दिए है! साथ ही धीरे-धीरे इस मामले में शिकायतों की संख्या बढ़ती जा रही है ओर अब तक हरिद्वार सहित देहरादून में 19 शिकायत आ चुकी है।

एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह ने बताया कि पावर बैंक एप्प से रकम दुगुनी करने नाम पर जो खुलासा किया गया था,उसमें एक डायरेक्टर को ग्रिफ्तार किया जा चुका है।साथ इस मामले में दिल्ली और बेंगलुरु में कहीं शिकायत रजिस्टर्ड हुई है और गिरफ्तारियां की गई है।वही उत्तराखंड एसटीएफ भी लगातार जांच कर रही है और जांच के दौरान ऐसे मनी ट्रेल और अकाउंट जिसमे डायरेक्टर में शेल कंपनियां खोली थी ऐसी कंपनियों को ट्रेस करते हुए चिन्हित किया जा रहा है।इसमें से कुछ डायरेक्टर के अकाउंट में रुपए गए थे।

उनकी गिरफ्तारी बेंगलुरु में हुई है जिसके लिए उत्तराखंड से एसटीफ की टीम भेजा जा रहा है और जांच के दौरान अब 250 करोड़ से ज्यादा की धोखाधड़ी की गई है।साथ ही इस खुलासे के बाद अब कई पीड़ित सामने आ रहे है और कई लोग साइबर थाने में शिकायत दर्ज करवाने के लिए आये हुए है। आज भी कई ऐसे पीड़ित आये है जिन्होंने 2 से 10 लाख रुपए की धोखाधड़ी हुई है, ऐसे नौजवानों से बात की जा रही है। लोगों से जो भी डिटेल मिल रही है, इन लोगों के अलग-अलग बैंक अकाउंट में पैसे गए हैं। उनकी डिटेल ली जा रही है। साथ ही कहा कि इस पूरे मामले में लगातार जांच चल रही है।

वही पीड़ित का कहना है कि एक कंपनी पावर बैंक जिसमें रुपए डबल हो जायेगे तो हमने उसमे 66 हजार रुपए लगा दिए तो बीच मे ही कंपनी छोड़ कर भाग गई।कंपनी ने बताया था की रोज रुपए आएंगे और एक साल तक लगातार आएंगे लेकिन रुपए नही आये।इस एप्प के बारे में हमारे दोस्तो ने जानकारी दी थी कि यह एप्प अच्छा चल रहा है और यह एप्प एक साल में डबल रुपए कर रहा है।हम लोगो को शंका हुई थी लेकिन कंपनी ने शुरू में 4 दिन रुपए दिए तो हमे यकीन हो गया था। लेकिन, जब तक यकीन हुआ तब तक कंपनी बंद हो चुकी थी।

साइबर थाने में शिकायत दर्ज करानी आई पीड़िता का कहना है कि पावर बैंक के नाम से एक एप्प है जिसे अब प्ले स्टोर से हटा दिया गया है।मैंने फेसबुक के द्वारा इस एप्प को देखा था और मेरे बहुत से दोस्त थे जो इस एप्प को डाऊनलोड भी किया था।इस एप्प के जरिये हर एक घण्टे में कुछ रुपए आते थे तो वही मैने भी किसी दोस्त के कहने से इस एप्प में रुपए डाले थे जो कि 10 दिन तक कुछ रुपए आये लेकिन उसके बाद कंपनी गायब हो गई।इस एप्प में पहले 15 हजार रुपए जमा कराए थे उसके बाद 45 हजार जमा कराए गए थे।

एप्प में रुपए जमा करने के बाद शुरू में हर घण्टे कुछ रुपए आते रहे थे।साथ ही बताया कि प्ले स्टोर में जो भी एप्प होते है तो सही होगा लेकिन ऐसा नही है।सरकार को भी प्ले स्टोर पर जो भी एप्प होते हुए उनको वेरीफाई करना चाहिए क्योंकि इन एप्प में सभी डिटेल चली जाती है।मेरे साथ तो नुकसान हुआ है लेकिन सभी को ये ही कहना चाहती हूँ कि कोई भी अगर इस तरह का कोई एप्प आता है तो उसकी पूरी जानकारी करनी चाहिये,मुझे इस एप्प के बारे में सोचना चाहिये था लेकिन दोस्तो के कहने पर मेरे द्वारा रुपए लगा दिए गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here