उत्तराखंड से बड़ी खबर : निगेटिव को पॉजिटिव, पॉजिटिव को बताया निगेटिव, फर्जीवाड़े का ऐसे हुआ खुलासा

corona rapid rantigen test kit


देहरादून: कोरोना रिपोर्ट में फर्जीवाड़े के मामले सामने आ रहे हैं। हाल ही में यूपी बाॅर्डर पर ऊधमसिंह नगर में यूज कोरोना किट से टेस्टिंग का मामला सामने आया था। अब सबसे बड़े सरकारी अस्पताल और मेडिकल कॉलेज में कोरोना जांच रिपोर्ट में फर्जीवाड़े का मामला सामने आया है। यहां पॉजिटिव मरीज को निगेटिव और निगेटिव को पॉजिटिव दिखाकर खेल किया गया। इससे पहले बाहर के सैंपलों की जांच कराकर मोटी रकम वसूलने का मामला भी सामने आ चुका है।

दून मेडिकल कॉलेज में आईसीएमआर के पोर्टल से रिपोर्ट लेकर मरीज का नाम बदला गया। इनमें पॉजिटिव व्यक्ति को निगेटिव और निगेटिव को पॉजिटिव दिखाया गया है। 25 मई को एक व्यक्ति की रिपोर्ट में उन्हें कोरोना पॉजिटिव दिखाया गया, लेकिन अस्पताल के एमएस डॉ. केसी पंत को रिपोर्ट पर शक हुआ। रिपोर्ट में शाब्दिक गलतियां थीं। क्यूआर कोड भी गायब था। उन्होंने रिपोर्ट को वेरिफाई कराया तो पता चला कि मूल रिपोर्ट महाराष्ट्र के 21 वर्षीय व्यक्ति की है। चैंकाने वाली बात यह है कि जांच पड़ताल हुई तो कई केस पकड़ में आए।

अस्पताल और लैब में कुछ ही लोग आईसीएमआर पोर्टल को एक्सेस करते हैं। पोर्टल पर जांच रिपोर्ट भी अपडेट की जाती है। रिपोर्ट में आईसीएमआर की आईडी, नमूना रेफरल फॉर्म की आईडी और रोगी की आईडी दर्ज होती है। इसमें बदलाव संभव नहीं है। ऐसे में मूल डाटा में डिटेल बदलकर रिपोर्ट बनाई गईं। रिपोर्टाें के अनुसार, रिपोर्ट अपलोड होने के बाद नाम, उम्र और लिंग में बदलाव संभव है। यह भी हर व्यक्ति नहीं कर सकता। सिर्फ वही व्यक्ति कर सकता है, जिसके पास पोर्टल के राइट्स हैं।

दूसरे राज्य में जाने, परीक्षा में बैठने या नौकरी ज्वाइन करने के लिए निगेटिव रिपोर्ट चाहिए होती है। वहीं पॉजिटिव रिपोर्ट का इस्तेमाल कर नौकरी से छुट्टी लेने या मेडिकल बिल भुगतान के लिए करने का संदेह है। दून मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. अशुतोष सयाना प्राचार्य ने कहा कि मामले की जांच चल रही है। कुछ चीजें अभी स्पष्ट नहीं हैं। पोर्टल से छेड़छाड हुई है तो कहां और किस स्तर पर हुई इसका पता लगाया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here