उत्तराखंड में टीकाकरण की रफ्तार धीमी, 18 से 44 आयु वर्ग के लिए आज पहुंचेगी 1.22 लाख डोज

देहरादून : देश भर में केंद्र सरकार द्वारा वैक्सीन लगाने का अभियान जारी है. सरकार ने देश भर की जनता को वैक्सीन लगाने का दावा किया है लेकिन ये दावे फेल होते नजर आ रहे हैं, देश के कई जगहों पर वैक्सीन खत्म हो गई है जिसके बाद बाहर विदेशों से वैक्सीन मंगाई जा रही है। कई केंद्रों में ताले लगे हैं।

बात करें।उत्तराखंड की तो राज्य में कोरोना टीकाकरण की रफ्तार धीमी पड़ गई है। 18 से लेकर 44 साल के लोगों का टीकाकरण शुरू किया गया तो इससे अधिक उम्र वालों को टीके कम पड़ने लगे। कुमाऊं में तो कई केंद्रों में सिर्फ आज ही की डोज बची है। पहले जितने टीके लगते थे, उस संख्या से आगे बढ़ने के प्रयास तक नहीं हो रहे हैं।

बता दें कि शुक्रवार को प्रदेश में 30,456 लोगों का टीकाकरण किया गया। जिनमें 18-44 वर्ष की उम्र वालों को 20728 डोज लगाई गई। वहीं, 45 वर्ष से लेकर अधिक आयुवर्ग में केवल 9728 व्यक्तियों को ही वैक्सीन लग पाई है। 18 से लेकर 44 वर्ष का टीकाकरण शुरू होने के बाद भी संख्या वही है। इसका कारण ये है कि वैक्सीन की कमी के कारण सिर्फ कुछ प्रमुख केंद्रों पर ही टीकाकरण किया जा रहा है, जबकि ज्यादातर टीकाकरण केंद्र पर 45 वर्ष से अधिक के व्यक्तियों का टीकाकरण बंद है।

राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ कुलदीप सिंह मार्तोलिया ने बताया कि एकाध दिन में इस वर्ग के लिए भी टीके उपलब्ध हो जाएंगे। इसलिए किसी को भी परेशान होने की जरूरत नहीं है। राज्य सरकार निरंतर केंद्र के संपर्क में है और जल्द वैक्सीन मिल जाएगी। हालांकि उन्होंने स्वीकार किया कि वैक्सीन की कम उपलब्धता की वजह से टीकाकरण में अड़चने आ रही हैं।

राज्य में 18-44 साल आयुवर्ग के व्यक्तियों के टीकाकरण के लिए राज्य को आज एक लाख 22 हजार खुराक और मिल जाएगी। इस इस आयु वर्ग के टीकाकरण के लिए अगले कुछ दिनों के लिए टीकों का इंतजाम हो गया है। डॉ. मार्तोलिया ने बताया कि एक लाख 22 हजार वैक्सीन कोविशिल्ड हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here