उत्तराखंड : मुसीबत के समय वसूली करने वाले एंबुलेंस संचालकों की मनमानी पर लगेगी लगाम, इस तैयारी में विभाग

देहरादून- उत्तराखंड में आपातकालीन सेवा यानी एंबुलेंस के किराए को लेकर मरीजों के साथ होने वाली लूट अब बंद होगी सरकार सरकारी और प्राइवेट एंबुलेंस के लिए एक समान रेट तय करने जा रही है। स्वास्थ्य मंत्री धन सिंह रावत ने अधिकारियों को इस संदर्भ में निर्देश दे दिए हैं स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि मजबूरी के समय कई मरीजों को एंबुलेंस महंगे दामों में मिलती है लिहाजा कई बार मरीज द्वारा एंबुलेंस के नाम पर लूट की शिकायत सामने आई है।

लिहाजा एंबुलेंस का तय किराए करने और इस में एकरूपता लाने के निर्देश दिए गए हैं। कोविड-19 के दौर में भी जिला अधिकारियों ने एंबुलेंस के रेट तय करने के बावजूद भी एकरूपता नहीं दिखाई दी थी। कहीं ₹15 तो कहीं ₹20 प्रति किलोमीटर रेट तय किया गया था। जबकि कई ऐसे जिले थे। जहां एंबुलेंस का कोई रेट नहीं तय था, लिहाजा अब पहाड़ और मैदान क्षेत्र में एंबुलेंस की रेट तय करने के लिए अलग-अलग फार्मूला बनेगा। और सरकारी और प्राइवेट एंबुलेंस का रेट एक समान होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here