उत्तराखंड: अस्पताल ने पार कर दी सारे हदें, कोरोना मरीज के इलाज का थमा दिया 7 लाख का बिल

काशीपुर: कोरोना काल में लोग मेडिकल माफिया से खासे परेशान हैं। दवाइयों से लेकर हर तरह के मेडिकल उपकरणों पर लूट मची हुई है। अस्पतालों की मानमानी भी थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। अस्पताल कोरोना मरीजों के परिजनों पर दबाव बनाकर उनसे मोटी रकम वसूल रहे हैं। ऐसा ही एक मामला काशपुर में सामने आया है। यहां एक अस्पताल में कोरोना मरीजों के इलाज के नाम पर 7 लाख रुपये का बिल थमा दिया।

काशीपुर के प्राइवे अस्पताल ने तो सारी हदें पार करते हुए कोरोना मरीज के इलाज का सात लाख का बिल थमा दिया। मरीज के परिजनों के मुताबिक रिश्तेदारों से उधार लेकर अस्पताल प्रबंधन को बिल चुकाया और पैसे खत्म होने के कारण आगे का इलाज आयुष्मान कार्ड से कराने की विनती की तो उसने इससे साफ इन्कार कर दिया। इस पर मामले की शिकायत अपर पुलिस अधीक्षक से की गई।

लखनपुर चुंगी, रामनगर निवासी गौरव शाह की मां को कुछ दिन पूर्व कोविड संक्रमण के चलते यहां मुरादाबाद रोड स्थित ढेला पुल के निकट एक आयुष्मान मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल में भर्ती कराया गया। उसके भाई को भी इसी अस्पताल के दूसरी ब्रांच में भर्ती किया गया था। मां और बेटे के उपचार पर अस्पताल प्रबंधन ने परिजनों को सात लाख का बिल थमा दिया। गौरव शाह के मुताबिक उसके पिता ने रिश्तेदारों से उधार लेकर अस्पताल का बिल चुकाया। गौरव शाह का कहना है कि घर की सारी जमा पूंजी खत्म हो चुकी है।

अस्पताल प्रबंधन से मां के आगे का उपचार अटल आयुष्मान कार्ड के आधार पर कराने की विनती की तो उन्होंने आयुष्मान कार्ड से उपचार करने से साफ मना कर दिया और मरीज को कहीं दूसरे अस्पताल में ले जाने की सलाह दे डाली। अब परेशान परिजनों से इस मामले की शिकायत एएसपी अक्षय प्रहलाद से की है।

एएसपी अक्षय प्रह्लाद का कहना है कि काशीपुर में पिछले कुछ दिनों से निजी अस्पतालों के मनमाने बिल वसूलने की शिकायत मिल रही है। रविवार को भी एक अस्पताल की शिकायत मिली है, जिसकी जांच की जा रही है। पिछले दिनों एक अस्पताल पर मुकदमा भी दर्ज किया गया था। अगर किसी मरीज से शासन के तय रेट लिस्ट से ज्यादा बिल वसूला जा रहा है तो वह पुलिस में शिकायत करे, ऐसे अस्पताल संचालकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here