उत्तराखंड: दूर होंगी गड़बड़ियां, 2022 के लिए फाइनल हो रही वोटर लिस्ट

 

देहरादून: अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी एसए मुरुगेशन ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार 1 जनवरी 2022 की अर्हता तिथि के आधार पर फोटोयुक्त विधानसभा निर्वाचक नामावली का विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम निर्धारित किया गया है। इस दौरान गलतियों को सुधाने का काम किया जाएगा।

मुरूगेशन ने बताया कि सोमवार 9 अगस्त से 31 अक्टूबर के मध्य निर्वाचक नामावली में एक से अधिक प्रतिष्ठियों एवं तार्किक त्रुटियों को हटाने, मतदान केंद्रों के युक्तिकरण का कार्य किया जायेगा। इस अवधि में बीएलओ के माध्यम से 1 सितम्बर से 15 सितम्बर तक नामावली का सत्यापन भी किया जायेगा।

एक नवम्बर को एकीकृत निर्वाचक नामावली के ड्राफ्ट का प्रकाशन किया जायेगा, जबकि 1 नवम्बर से 30 नवम्बर तक दावे और आपत्तियां दर्ज की जा सकेंगी। निर्वाचक नामावली के पुनरीक्षण के लिए 13 और 14 नवम्बर और 27 व 28 नवम्बर 2021 को विशेष अभियान संचालित किया जायेगा। 20 दिसम्बर को दावों एवं आपत्तियों का निस्तारण किये जाने के पश्चात 05 जनवरी 2022 को मतदान सूची का अंतिम प्रकाशन किया जायेगा।

अपर मुख्य निर्वाचक अधिकारी मुरुगेशन ने बताया कि इसके साथ ही आयोग द्वारा 1 जनवरी 2022 की अर्हता के आधार पर विधानसभा सर्विस निर्वाचक नामावली के अंतिम भाग की तैयारियों और प्रकाशन के लिए भी दिशा निर्देश जारी किये गये हैं। इसके अंतर्गत 1 नवम्बर 2021 को निर्वाचक नामावली के अंतिम भाग के प्रारूप का प्रकाशन किया जायेगा।

1 नवम्बर से 30 नवम्बर 2021 तक अभिलेख अधिकारी द्वारा प्रपत्र प्राप्त करने, प्रपत्रों का सत्यापन, स्केनिंग तथा अभिलेख अधिकारियों एवं प्राधिकारियों द्वारा सत्यापित प्रतियों को अपलोड की कार्यवाही की जायेगी। 20 दिसम्बर 2021 तक इआरओ द्वारा प्रपत्रों का सत्यापन प्रक्रिया का निस्तारण करने के साथ ही 30 दिसम्बर 2021 को इआरओ इस सम्बंध में अंतिम आदेश निर्गत कर 5 जनवरी 2022 को मतदान सूची के अंतिम भाग का अंतिम प्रकाशन किया जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here