उत्तराखंड : कॉबेट पार्क में घूमना हुआ मुश्किल, आने वालों की बढ़ी टेंशन, ये है बड़ा कारण

रामनगर: जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क। जंगली जानवरों को देखने के शौकीनों की यह पहली पसंद है। पार्क अब फिर से पर्यटकों के लिए खुलने लगा है। प्रसिद्ध ढिकाला जोन ढिकाला खुल चुका है और खुलते ही पैक भी हो चुका है। नाइट स्टे के लिए पार्क लगभग फुल हो चुका है। बिजरानी, झिरना, ढेला व ढिकाला के गेस्ट हाउसों के परमिट 14 जनवरी तक के लिए बुक हो चुके हैं। डे परमिट मिलना भी मुश्किल हो रहे हैं।

कॉर्बेट पार्क 15 जून को बरसात की वजह से बंद किया जाता है। ढेला व झिरना जोन पूरे साल डे-विजिट के लिए खुले रहते हैं। 30 जून से पार्क के बिजरानी, ढेला, झिरना आदि जोन में रात्रि विश्राम के साथ ही डे-विजिट जंगल सफारी होती है। 15 नवंबर को ढिकाला जोन पर्यटकों के सैर के लिए खुल चुका है। कॉर्बेट पार्क प्रशासन के अनुसार ढिकाला में रात को रुकने के लिए 80 से अधिक पर्यटक जा रहे हैं।

150 से अधिक कैंटर सफारी कर डे विजिट कर रहे हैं। पार्क के अन्य जोन में भी पर्यटकों की भीड़भाड़ देखने को मिल रही है। बताया कि ढिकाला जोन की अक्तूबर में बुकिंग शुरू कर दी गई थी। 14 जनवरी तक परमिट बुक करने के लिए पार्क की वेबसाइट खोली गई है। रात्रि विश्राम के लिए सभी जोनों के परमिट बुक कर लिए गए हैं। कॉर्बेट में हर साल दस लाख भारतीय पर्यटक तो करीब छह हजार विदेशी पर्यटक आते हैं।

पार्क प्रशासन के अनुसार कॉर्बेट के बिजरानी, गर्जिया, दुर्गादेवी, झिरना व ढेला जोन में डे विजिट के परमिट पर्यटक बुक करा सकते हैं। हालिया स्थिति यह है कि शनिवार व रविवार को डे-विजिट के परमिट भी नहीं मिल रहे हैं। डे-विजिट की बुकिंग अन्य दिनों में भी फुल चल रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here