उत्तराखंड: डेल्टा प्लस वैरिएंट ने बढ़ाई टेंशन, जांच के लिए भेजे 30 सैंपल, रिपोर्ट का इंतजार

देहरादून: देशभर में कोरोना से बचाव के लिए लागू प्रतिबन्धों को अब धीरे-धीरे खोला जा रहा है। जबकि] जानकारों का मानना है कि, कोरोना की तीसरी लहर अगले कुछ ही महीने में दस्तक दे सकती है। वहीं, अदालतों ने सरकारों से उनकी तैयारियों को लेकर सवाल किए हैं। ज़्यादातर लोगों में कोरोना के नए वेरिएंट को लेकर चिंता है। देशभर में अब तक कुल 12 राज्यों में कोरोना के नए वेरिएंट डेल्टा प्लस के 51 मामले सामने आए हैं। इनमें से सबसे ज्यादा 22 मामले महाराष्ट्र से आए हैं।

तमिलनाडु में डेल्टा प्लस के 9 मामले आए, मध्य प्रदेश में सात, केरल में तीन, पंजाब और गुजरात में दो-दो, आंध्र प्रदेश, ओडिशा, राजस्थान, जम्मू कश्मीर, हरियाणा, कर्नाटक में एक-एक मामला सामने आया है। जबकि महाराष्ट्र और तमिलनाडु में एक-एक व्यक्ति की कोरोना के ‘डेल्टा प्लस’ वेरिएंट के संक्रमण के कारण मौत हो गयी है। डेल्टा प्लस में हुए म्यूटेशन से संक्रामकता और बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। डेल्टा प्लस वैरिएंट के बढ़ते खतरे को देखते हुए इसको लेकर केंद्र सरकार अलर्ट हो गई है।

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने तमिलनाडु, गुजरात, आंध्र प्रदेश, राजस्थान, कर्नाटक, पंजाब, जम्मू-कश्मीर और हरियाणा के मुख्य सचिवों को पत्र लिखकर डेल्टा प्लस वैरिएंट के प्रसार को रोकने के उपायों को बढ़ाने का निर्देश दिया है। कोरोना वायरस के डेल्टा प्लस वेरिएंट की आशंका ने एक बार फिर लोगों को चिंता में डाल दिया है।

उत्तराखंड के ऊधमसिंह नगर जिले में डेल्टा पल्स वेरिएंट की जांच या इससे मिलते जुलते नए संक्रमण के बारे में पता लगाने के लिए एनसीडीसी दिल्ली में कोविड संक्रमित 30 लोगों के सैंपल भेजे गए हैं। स्वास्थ्य विभाग की मानें तो सैंपल की रिपोर्ट आने के बाद ही डेल्टा प्लस वेरिएंट की पुष्टि हो पाएगी। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान जिले में बी.17.4 वायरस की पुष्टि हुई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here