उत्तराखंड: आर्मी इंटेलिजेंस और STF का खुलासा, जालसाजों ने 100 लोगों को भेजा विदेश

देहरादून: एसटीएफ को इनपुट मिला था कि देहरादून में कुछ लोग सेना से सम्बन्धित दस्तावेज फर्जी तरीके से तैयार कर लोगों को विदेश भेज रहे हैं। उन्हें फर्जी तरीके से नौकरियां दिलवा कर अवैध धन अर्जित कर लोगों के साथ धोखाधड़ी कर रहे हैं। सूचना के आधार पर प्रभारी एसटीएफ द्वारा निरीक्षक सन्दीप नेगी के नेतृत्व में उप निरीक्षक यादवेन्द्र बाजवा एवं आर्मी इन्टेलीजेन्स की एक संयुक्त टीम का गठन किया गया।

एसटीएफ और इंटेलिजेंस द्वारा विगत कई दिनों से सूचना संकलित की जा रही थी। एसटीएफ को सूचना प्राप्त हुई थी कि विक्की थापा नाम का व्यक्ति जो दूधली रोड मोथरावाला में रहता है, उसके द्वारा सेना के फर्जी दस्तावेज बनवाकर विदेश जाने की तैयारी कर रहा है। सूचना के आधार पर दिनांक 20 जनवरी की रात को एसटीएफ और आर्मी इन्टेलीजेन्स की संयुक्त टीम द्वारा दूधलीरोड, मोथरोवाला स्थित इन्द्रपुरी फार्म के पास से एक व्यक्ति को पकड़ कर उससे पूछ-ताछ की गई तो उसके द्वारा अपना नाम विक्की थापा बताया।

गिरफ्तार किये गये व्यक्ति की तालाशी ली गई तो उसकी जैकेट की जेब से सेना से सम्बन्धित कुछ दस्तावेज बरामद हुए। गिरफ्तार व्यक्ति द्वारा पूछ से बताया गया कि जोहड़ी गांव में रघुवीर सिंह नाम के एक व्यक्ति है जो इसी प्रकार से सेना के फर्जी दस्तावेज बनाकर लोगो को विदेश भिजवाने का काम करता है। इसके एवज में लोगों से भारी धन वसूलता है। इस सूचना पर एसटीएफ टीम द्वारा गिरफ्तार किये गये व्यक्ति विक्की की निशानदेही पर थाना राजपुर क्षेत्र के जोहड़ी गांव में रघुवीर सिंह के घर पर गये तथा उससे पूछ-ताछ की गई।

पूछ-ताछ करने पर रघुवीर सिंह ने अपने घर के एक कमरे में रखे बैड के अन्दर से सेना से सम्बन्धित कुछ दस्तावेज, 20 मोहरे व 90 सेना की पुस्तिका जिनमें से पुस्तकें 44 भरी हुई थी, बरामद की गई । रघुवीर सिंह ने पूछ-ताछ के दौरान बताया कि उसके द्वारा सेना के यह दस्तावेज भैरवदत्त कोटनाला की बंजारावाला स्थित ओम जय प्रिन्ट एण्ड स्टेशनरी नाम की प्रिन्टिंग प्रेस से तैयार कराये जाते हैं। रघुवीर सिंह द्वारा बताई गई सूचना के आधार पर पुलिस टीम द्वारा भैरवदत्त के घर पर जाकर उससे प्रिन्टिंग प्रेस के बारे में पूछ-ताछ की गई एवं उसके प्रिन्टिंग प्रेस के कम्पूयटर की जांच पड़ताल से सेना के फर्जी दस्तावेजों की प्रिन्टिंग इस प्रेस में होने की पुष्टि हुई एवं वहां पर ली गई तलाशी पर प्रिन्ट हुई सेना की कुछ पुस्तके भी बरामद की गई।

सेना के फर्जी दस्तावेज तैयार कर अब तक लगभग 100 से अधिक लोगों को विदेश भेजा जा चुका है। इस सम्बन्ध में एसटीएफ व आर्मी इन्टेलीजेन्स द्वारा उक्त व्यक्तियों के विदेशों में सम्बन्ध होने के बारें में तथा जिन लोगों को अभी तक इनके द्वारा विदेश भेजा गया है। उनके सम्बन्ध में तथा गिरफ्तार किये गये अभियुक्तों के बैंक खातों के सम्बन्ध में जानकारी संकलित की जा रही है। उक्त के अतिरिक्त इन व्यक्तियों का किसी राष्ट्रविरोधी व आतंकवादी संगठनों से सम्बन्ध होने के बारे में भी गहनता से जाँच की जा रही है। इन व्यक्तियों द्वारा फर्जी पासपोर्ट बनाये जाने की बात भी प्रकाश में आई है जिसके सम्बन्ध में भी जांच की जा रही है।

बताया गया कि, उनके द्वारा लागों को सेना का रिटार्यड व्यक्ति बनाकर व्यक्तियों के सेना के फर्जी दस्तावेज तैयार कर उनको अफगानिस्तान, पाकिस्तान, दुबई व इराक आदि देशों में नौकरी दिलवाने के नाम पर मोटी रकम वसूल की जाती थी। गिरफ्तार किया गया अभियुक्त रघुवीर सिंह पाल सेना का रिटार्यड व्यक्ति है तथा ग्राम जोहड़ी का वर्ष 2008 से 2013 तक उप प्रधान भी रह चुका है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here