UKSSSC पेपर लीक मामले एक और बड़ी गिरफ्तारी, एनजीओ संचालक गिरफ्तार

UKSSSC पेपर लीक मामले में एसटीएफ को एक और बड़ी कामयाबी मिली है। STF ने इस मामले में एक एनजीओ संचालक को रामनगर से गिरफ्तार किया है। एनजीओ संचालक की करोड़ों की संपत्ति का भी खुलासा हुआ है। एसटीएफ एनजीओ संचालक की पहले हुई परिक्षाओं में भूमिका को लेकर भी जांच कर रही है।
दरअसल एसटीएफ पहले से गिरफ्तार 20 लोगों से लगातार पूछताछ कर रही है। इसी क्रम में वीडियो वीपीडीओ भर्ती परीक्षा में प्रश्नपत्र लीक मामले की भी जांच की जा रही। इसी पूछताछ में रामनगर निवासी चंदन मनराल का पता चला। चंदन सिंह मनराल पूर्व में गिरफ्तार अभियुक्तों के सम्पर्क में है एवं कई को प्रश्नपत्र उपलब्ध करवाया है।

उत्तराखंड में आपदा से चार लोगों की मौत, 13 लापता, बड़े पैमाने पर नुकसान

इस टिप के बाद एसटीएफ ने चंदन मनराल को उठा लिया। उससे लंबी पूछताछ हुई। कई सबूत सामने रखे गए।  चंदन मनराल एसटीएफ को इधर उधर घुमाने की कोशिश करने लगा। एसटीएफ ने सबूतों के आधार पर चंदन मनराल को गिरफ्तार कर लिया।
इसके साथ ही एसटीएफ के जरिए गिरफ्तार लोगों की कुल संख्या 21 हो गई है। वहीं चंदन की करोड़ों की संपत्ति के बारे में भी जानकारी मिली है। मनराल बाल महिला कल्याण समिति नाम से एनजीओ चलाता है। पिरूमदारा में उसके पास 15 एकड़ जमीन है।  करीब 10 बीघा खेती की भूमि रामनगर में है। एक स्टोन क्रेशर पीरुमदार में है। इसमें करीब सात बड़े ट्रक एवं तीन पोकलैंड मशीने हैं। मनराल ट्रैवल्स एजेंसी भी है जिसमें करीब 13 बसें जिनमें से 10 बस स्कूलों में एवं तीन बसें पहाड़ में चलती हैं। रामनगर में 3 मंजिला मकान व ऑफिस है। इसके साथ ही आधा बीघा जमीन मुख्य सड़क है।  इसके अलावा एक कमर्शियल प्लाट भी है। एनजीओ संचालक के सात बैंक खातों की जानकारी भी मिली है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here