‘प्यारी पहाड़न’ के समर्थन में UKD, अध्यक्ष बोले- भावना पांडे का नहीं UKD से कोई सम्बन्ध

देहरादून : देहरादून के कारगी चौकी, बंजारावाला रोड़ पर पौड़ी की प्रीति मंडोलिया ने प्यारी पहाड़न नाम से एक रेस्टोरेंट खोला है। जिसके उद्धाटन के दौरान जमकर हंगामा हुआ। रेस्टोरेंट की मालकिन प्रीति बेहोश हो गई थी। खुद को क्रांतिकारी बताने वाले शख्स सुरेंद्र सिंह रावत ने नाम पर आपत्ति जताते हुए रेस्टोरेंट में जाकर जमकर हंगामा किया था इस नाम को उत्तराखंड की महिलाओं का अपमान बताया था। सुरेन्द्र सिंह रावत का कहना है कि यह नाम हमारी पहाड़ी संस्कृति और मर्यादाओं के विपरीत है।प्रीति का कहना है कि में भी पहाड़ की बेटी हूं और स्वरोजगार कर रही हूं यह नाम मैंने उत्तराखंड को रिप्रेजेंट करने को महिलाओं के सम्मान के लिए रखा है।

मौके पर थीं UKD की अध्यक्ष परमिला रावत और भावना पांडे

सुरेन्द्र रावत जब रेस्टोरेंट के आगे हंगामा मचा रहे थे। तब मौके पर UKD की अध्यक्ष परमिला रावत और आंदोलन कारी भावना पांडे भी मौके पर पहुंची। उनका नाम यूकेडी से जो़ड़ा गया लेकिन यूकेडी के केंद्रीय अध्यक्ष ने सोशल मीडिया के जरिए ये साफ किया कि भावना पांडे नाम की महिला का उनकी पार्टी से कोई लेना देना नहीं है।

यूकेडी के केंद्रीय अध्यक्ष काशी सिंह ऐरी ने कहा- नहीं यूकेडी से कोई संबंध

यूकेडी के केंद्रीय अध्यक्ष काशी सिंह ऐरी ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट शेयर करते हुए लिखा कि मेरे संज्ञान में आया है, कि एक बेटी ने देहरादून में “प्यारी पहाइन’ नाम से रेस्ट्रोरेंट के रूप में रोजगार की शुरुआत की। पता चला हैं कुछ लोगों द्वारा रेस्ट्रोरेंट पहुँचकर उनके साथ अभद्र व्यवहार किया गया है। उत्तराखण्ड क्रान्ति दल इस घटना और इस प्रकार की हर घटना की कड़ी निंदा करता है।

घटना में आरोपी भावना पांडे नाम की महिला का उत्तराखण्ड क्रान्ति दल से कोई भी सम्बन्ध नहीं है। हालाँकि, घटना में हमारे दल से जुड़े कुछ महिला एवं पुरुष कार्यकर्ताओं का भी नाम भी सामने आ रहा हैं, जिसकी जाँच अवस्य की जाएगी। में स्पष्ट करना चाहता हूँ कि, उत्तराखण्ड क्रान्ति दल पूरी तरह से पीड़ित के साथ है, दोषियों को सजा दिलाने में उत्तराखण्ड क्रान्ति दल पूर्ण सहयोग करेगा। प्रीती को उनके उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाएं देता हूँ।

• काशी सिंह ऐरी

अध्यक्ष, उत्तराखण्ड क्रान्ति दल

May be an image of text

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here