ऐसा अद्भुत संयोग सिर्फ उत्तराखंड में : एक साथ सेना में हुए भर्ती और एक साथ ही रिटायर हुए दो भाई, गांव में मना जश्न

चमोली: ये बात कहने और बताने वाली नहीं है कि देश की रक्षा में तैनात अधिकतर सैनिक देवभूमि से हैं और अभी भी उत्तराखंड के युवक युवतियां सेना में जाने की तैयारी कर रहे हैं. अब तक कई सैनिक देश की रक्षा के लिए सीमा पर  अपनी जान की कुर्बानी दे चुके हैं। इतिहास के पन्नों पर उत्तराखंड के वीर सैनिकों का नाम दर्ज है। शहीदों की याद में कई द्वार और सड़कों समेत स्कूल बनाए गए हैं. उनकी यादें अमिट है। लेकिन कई सैनिक ऐसे हैं जो देश की रक्षा करके रिटायर हो गए हैं.
उत्तराखंड में एक परिवार में दो से तीन सैनिक जरुर भर्ती होकर देश की रक्षा कर रहे हैं इनमे से एक परिवार है दिनेश बिष्ट और नरेंद्र बिष्ट का जो की दोनों भाई हैं। दोनों भाई एक साथ ही सेना में भर्ती हुए और एक साथ ही रिटायर हुए. दोनों की फोटो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रही है। 27 साल पहले देशसेवा का दिल में जज्बा लिए दोनों भाई फौज में भर्ती हुए. इसे अद्भुत संयोग ही कहेंगे कि 27 साल देश की रक्षा करने के बाद दोनों भाई एक साथ ही रिटायर भी हुए। मां की आंखों में खुशी के आंसू छलके।
बीते दिनों दोनों जांबाज बेटे जब रिटायरमेंट के बाद गांव लौटे तो पूरे परिवार और गांव में जश्न का माहौल था। रिटायरमेंट के बाद बेटों के गांव लौटने पर मां की आंखें भर आई और मां ने दोनों को खूब लाड प्यार किया। एक मां के लिए ये गर्व की बात है कि उसके दोनों बेटे सेना में रहकर देश की रक्षा करके लौट आए है।
फोटो वायरल करते हुए पोस्ट में लिखा गया है कि…
कितना अद्भुत संयोग है।
दोनों भाई एक साथ एक ही दिन देश की सेवा के लिए सेना में भर्ती हुए और आज दोनों एक साथ 27 साल की देश सेवा के बाद सकुशल सेवानिवृत्त हो गए हैं। चमोली के ग्रामसभा काँसुवा के तलोंजा गांव के दो भाई श्री दिनेश बिष्ट जी और श्री नरेन्द्र बिष्ट जी को हार्दिक बधाई, जय हिंद। कितने खुशनसीब होते हैं वो लोग जिन्हें देश की सेना में जा कर देश की सेवा करने का मौका मिलता है, निःसंदेश आज उस माँ का सीना गर्व से चौड़ा हो रहा होगा जिसने अपने दोनों बेटों को सत्ताईस साल पहले एक साथ देश की सेवा में भेजा होगा❤️
इस अवसर पर पूरे बिष्ट परिवार को बधाई 💐
माँ नंदा की कृपा आपके परिवार पर बनी रहे🚩

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here