सम्मोहित बाबा तो बड़ा नटवरलाल निकला, खोले कई बड़े राज, CM ऑफिस तक जा पहुंचा था

ऋषिकेश : एक और बड़ी खबर ऋषिकेश से है जहां पुलिस की पूछताछ में सम्मोहन कर ठगी करने वाला बाबा ने कई राज खोले हैं। बाबा को पुलिस के रिमांड में लेने के बाद उसकी निशानदेही पर ठगा हुआ अन्य सामान भी बरामद कर लिया गया है। बता दें कि पुलिस ने बड़ी रुद्राक्ष की माला मय शिव जी की मूर्ति स्वर्ण, एक ब्रेसलेट स्वर्ण, एक रुद्राक्ष ब्रेसलेट मय ओम पेंडल स्वर्ण अनुमानित कीमत लगभग 42 लाख है, बरामद किया है। इससे पहले पुलिस ने बाबा की निशानदेही पर 9 लाख के गहने बरामद किए थे। बता दें कि ये वहीं बाबा है जो सीएम दफ्तर तक जा पहुंचा था औऱ सीएम धामी नेे बाबा की पुस्तक विमोचन किया था। वहीं इस मामले में जांच जारी है कि आखिर ठग बाबा सीएम दफ्तर तक कैसे पहुंचा।

आपको बता दें कि 10 जुलाई को कोतवाली ऋषिकेश में शिकायतकर्ता हितेंद्र सिंह पंवार गढ़वाल ज्वेलर्स ने पुलिस को तहरीर सौंपी और बताया कि उसकी पत्नी की कुछ मानसिक समस्या है, जिसका फायदा उठाकर महिंद्र रोड उर्फ योगी प्रियव्रत अनिमेश ने आध्यात्मिक इलाज से उपचार के बहाने कई बार अपने निवास नेचर विला, विला नंबर 21 में बुलाकर खाने की दवाइयां भी दी और सम्मोहित कर अलग-अलग तारीखों में दिसंबर 2019 से अब तक एक रुद्राक्ष की माला, सोने का ब्रेसलेट, रुद्राक्ष का ब्रेसलेट, सोने की माला, सोने की 04 अंगूठी, तुलसी की माला तथा कुछ रुपए नगद भी लिए हैं। 2 जुलाई को दुकान का सामान मिलाने पर मुझे उक्त जानकारी हुई है। शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने जांच शुुरु की और बाबा को गिरफ्तार कर 9 लाख के गहने बरामद किए थे।

वहीं पुलिस ने उसे रिमांड में लेकर पूछताछ की जिसमे ठग बाबा ने कई राज खोले हैंं। आरोपी की निशानदेही पर उसके घर से सोने चांदी का सामान भी बरामद किया गया था। वहीं बीते दिन 17 जुलाई की शाम को उपरोक्त अभियुक्त की पुलिस कस्टडी रिमांड के पश्चात उसकी निशानदेही पर उसके आवास से ठगा हुआ अन्य शेष माल बरामद किया गया है।

पुलिस टीम

शिशुपाल सिंह नेगी(प्रभारी निरीक्षक कोतवाली ऋषिकेश)

1- मनमोहन सिंह नेगी (वरिष्ठ उप निरीक्षक ऋषिकेश)
2- मुकेश नेगी(उप निरीक्षक)
3- कांस्टेबल तेज सिंह
4- कांस्टेबल अमित राणा
5- कांस्टेबल सचिन सैनी
8- आरक्षी संदीप छाबड़ी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here