दिल्ली में इमारत जमींदोज, मलबे में समा गए मां के दोनों लाडले, रो-रोकर बुरा हाल

 

दिल्ली में बीते दिन दर्दनाक हादसा हुआ। दिल्ली में एक इमारत जमींदोज हो गई। उत्तरी दिल्ली के सब्जी मंडी, मालकागंज इलाके में आज सुबह 11:50 पर एक इमारत के धवस्त होने से अफरा-तफरी मच गई. हादसे के बाद आम लोगों ने बिल्डिंग में बड़े लोगों को निकालने का काम शुरू किया लेकिन उनका आरोप है कि प्रशासन की तरफ से लापरवाही दिखी.

अचानक हुआ धमाका

इस हादसे में इमारत गिरने से मां के सामने ही उसके दोनों मासूम बेटे मलबे में दब गए। मां अपने दोनों लडलों को बचाने के लिए चीखती चिल्लाती रही। अचानक धमाका हुआ और चारों ओर रेत का गुबार उठा। कुछ ही देर में वहां का नजारा बदला हुआ था। हर ओर चीख पुकार मच रही थी। बच्चों की मां आयुषी को लगा कि शायद उसके बच्चे घर भाग गए हैं। भागते-भागते आयुषी घर पहुंची तो वहां दोनों बेटे वहां नहीं थे।

दोनों लाडलों की मलबे में दबने से मौत

बदहवास आयुषी वापस घटना स्थल पर पहुंची तो वहां का नजारा ही बदला हुआ था। अब आयुषी को लग चुका था कि दोनों बच्चे मलबे में दब गए हैं। इसकी आशंका होते ही आयुषी होश खो बैठी। इस बीच पुलिस की टीम वहां पहुंच चुकी थी। पुलिस ने आयुषी को सुरक्षित घर पहुंचाया। बाद में करीब दो घंटे बाद दोनों बच्चों प्रशांत और सौम्य के शव मलबे से निकाले गए। आयुषी के दो ही बेटे थे। एक बेटे की उम्र 7 साल तो दूसरे की 12 साल थी। बच्चों की मौत के बाद से बार-बार आयुषी अपने होश खो रही थी। परिवार में कोहराम मचा है। मां ने अपने लाडलों को खो दिया।

72 साल की बुजुर्ग की भी हुई मौत

आशंका है कि अभी भी मलबे में कई लोग दबे हुए हो सकते हैं. पुलिस के अनुसार 2 बच्चों के अलावा, 72 साल के एक बुजुर्ग को मलबे से बाहर निकाला गया जिनकी भी मृत्यु हो गई. मृतक बुजुर्ग की पहचान रामजी दास के रूप में हुई है. वहीं, अभी तीन से चार लोगों के मलबे में दबे होने की आशंका जतायी जा रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here