मदद को कोई नहीं आया आगे, फिर कोरोना संक्रमित बुजुर्ग के लिए देवदूत बनी घनसाली पुलिस, पैदल चढ़ाई चढ़कर पहुंचाया अस्पताल

टिहरी जिले के थाना घनसाली के पुलिस ने मानवता की मिसाल कायम की। घनसाली पुलिस ने वर्दी का फर्ज अदा किया और 76 वर्षीय बुजुर्ग को स्ट्रेचर के सहारे 2 किमी0 चढाई की पैदल दूरी तय कर अस्पताल पहुंचाया। घनसाली पुलिस की जिले की कप्तान ने तारीफ की।

आपको बता दें कि टिहरी जिले के घनसाली तहसील अंतर्गत पौखाल के मोलनो गांव में 76 वर्षीय बुजुर्ग पूरण सिंह जो कि कोरोना पॉजिटिव थे और उनको उनके ही घर पर होम आइसोलेट किया गया था। अचानक उनकी तबीयत ज्यादा ही खराब हो गयी। तबीयत खराब होने के बाद उनके बेटे ने ग्रामीणों से पिता को अस्पताल पहुंचाने की गुहार लगाई लेकिन कोई ग्रामीण मदद के लिए आगे नहीं आया। तो फिर बेटे सुरेंद्र ने टिहरी के टोल फ्री नंबर 112 पर कॉल कर टिहरी पुलिस से मदद की गुहार लगाई। मिशन के तहत एसएसपी टिहरी तृप्ति भट्ट द्वारा त्वरित मामले का संज्ञान लेते हुए घनसाली थाना अध्यक्ष कुलदीप शाह को बुजुर्ग की मदद के लिए आदेशित किया गया। थाना अध्यक्ष घनसाली द्वारा बुजुर्ग की मदद के लिए एक टीम गठित कर जल्द बुजुर्ग को अस्पताल पहुचाने के लिए टीम रवाना की गई।

पहाड़ों की विषम परिस्थिति के मद्दे नजर पुलिस के जवानों द्वारा स्ट्रेक्चर साथ मे लेजाकर बुजुर्ग के घर पहुँचे और दो किमी. की पैदल दूरी तय कर पीपीई किट पहनकर बुजुर्ग को सड़क तक पहुँचाया और एम्बुलेंस की मदद से बुजुर्ग को जिला अस्पताल पहुंचाया।

हैरानी की बात यह है कि मोलनो गांव में 500 परिवार के 2500 लोग निवास करते हैं और पुरन सिंह भी इसी गांव में निवासरत हैं। उनका एक ही बेटा है जो कि पिता को अकेले सड़क तक नहीं पहुँचा पाता। बेटे ने ग्रामीणों से मदद की गुहार लगाई मगर गांव के जनप्रतिनिधियों सहित कोई भी ग्रामीण उनकी मदद के लिए आगे नहीं आया तो बुजुर्ग के लिए देवदूत बनकर टिहरी पुलिस ने बुजुर्ग को अस्पताल पहुँचाया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here