युवक कैंसर के लास्ट स्टेज में, लोग कर रहे थे घृणा, फिर ऋषिकेश पुलिस ने इलाज के लिए पहुंचाया अस्पताल

ऋषिकेश :  ऋषिकेश पुलिस नेेेे एक बार फिर मानवता और इंसानियत की मिसाल कायम की। आपको बता दें कि ऋषिकेेश कोतवाली पुलिस ने ऑपरेशन “मिशन हौसला” के दृष्टिगत, लास्ट स्टेज कैंसर पीड़ित का 09 दिनों की कड़ी सेवा-मेहनत के बाद हेल्पिंग हैंड एनजीओ की सहायता से अब गंगा प्रेम अस्पताल रायवाला में इलाज के लिए भर्ती कराया, जहां अब उसका इलाज होगा।

बता दें कि 7 मई 2021 को कोतवाली ऋषिकेश के चौकी प्रभारी त्रिवेणी घाट पर कर्मचारियों के साथ त्रिवेणी घाट परिसर में उपस्थित गरीबों की सहायता के लिए भोजन इत्यादि की जानकारी के संबंध में गश्त कर रहे थे कि नाव घाट स्थित बेंच पर एक व्यक्ति संदिग्ध अवस्था में लेटा हुआ दिखाई दिया। जिसके पास जाकर देखा तो उसके चेहरे के एक साइड में बहुत बड़ा घाव हो रखा था। जिसके विषय में जानकारी करने पर उसके द्वारा बताया गया कि मैं कैंसर पीड़ित हूं और इस समय मेरे कैंसर की अंतिम अवस्था चल रही है। मेरे परिवार में कोई नहीं है, और मैं अब अपना इलाज कराने में असमर्थ हूं। मेरे घाव के कारण मुझे सभी लोग घृणा की दृष्टि से देखने लगे हैं। जिस कारण मैं यहां अकेले में पड़ा हुआ हूं।

इस पर चौकी प्रभारी त्रिवेणी घाट के द्वारा प्रभारी निरीक्षक रितेश शाह को इसकी सूचना दी गई। जिसपर उनके द्वारा उच्च अधिकारियों को इसकी सूचना दी गई और उनसे प्राप्त दिशा निर्देशों के अनुपालन में चौकी प्रभारी को बताया गया।

ऋषिकेश पुलिस द्वारा कैंसर पीड़ित की मदद की। पुलिस ने सर्वप्रथम कैंसर पीड़ित के रहने के लिए त्रिवेणी घाट परिसर स्थित पुराने पुलिस बूथ की सफाई कर उसके अंदर बिस्तर एवं पंखे की व्यवस्था की गई। चेहरे पर बहुत बड़ा घाव हो जाने के कारण, खाने के लिए पोष्टिक एवं तरल पदार्थ की व्यवस्था निजी खर्चे से की गई। 8 मई को कैंसर पीड़ित का राजकीय चिकित्सालय ऋषिकेश में कोविड- टेस्ट करवाया गया और निजी खर्चे पर वाहन की व्यवस्था कर उक्त कैंसर पीड़ित को एम्स अस्पताल ऋषिकेश ले जाया गया।

कैंसर वार्ड में बताया गया कि इसका पूर्व मैं यहां पर इलाज हुआ था लेकिन पीड़ित के पास पूर्व में इलाज संबंधी कोई भी कागज नहीं मौजूद मैं होने पर पुनः पर्चा बनवाया गया। तत्पश्चात कैंसर वार्ड से कैंसर पीड़ित को रेडियोथैरेपी डिपार्टमेंट में भेजा बताया गया कि रेडियो टेप-थेरेपी डिपार्टमेंट पीड़ित को भर्ती कर सकता है। रेडियोथैरेपी डिपार्टमेंट ने पीड़ित के लिए दवाइयां लिखकर गौरी माफी स्थित प्रेम गंगा हॉस्पिटल जहां पर की कैंसर की लास्ट स्टेज वालों का सेवा की जाती है वहां पर जाने के लिए बताया।

9 मई को फिर ऋषिकेश पुलिस द्वारा निजी खर्चे पर वाहन की व्यवस्था कर उपरोक्त कैंसर पिडित को प्रेम गंगा हॉस्पिटल गौहरीमाफी रायवाला में ले जाया गया, जहां पर वहां के प्रभारी द्वारा बताया गया कि उक्त पीड़ित की एम्स अस्पताल द्वारा बायोप्सी नहीं कराई गई है,और ना ही रेडियोथैरेपी की गई है। पीडि़त के पर्चे में भी कैंसर का कोई उल्लेख किया गया है। नियमानुसार अगर एम्स अस्पताल में इलाज के दौरान यह पाया जाता है कि पीड़ित का कैंसर लास्ट स्टेज का है, और वह सरवाइव नहीं कर सकता, तो एम्स प्रशासन प्रेम गंगा हॉस्पिटल को यह लिखित में रिपोर्ट दे। तो प्रेम गंगा हॉस्पिटल पीड़ित को एडमिट कर उसकी सेवा कर सकता है। इसके बाद ऋषिकेश पुलिस द्वारा कैंसर पीड़ित को वापस त्रिवेणी घाट स्थित पुलिस बूथ में लाकर उसके घाव की सफाई करवाई गई, व डॉक्टर द्वारा दी गई दवाई लाकर दी गई। ऋषिकेश पुलिस ने कैंसर पीड़ित के इलाज में सहायता वह किसी अस्पताल में भर्ती कराने के संबंध में स्थानीय सहायकों व एन.जी.ओ से संपर्क किया गया।ऋजिसपर 16 मई को ऋषिकेश स्थित हेल्पिंग हैंड एनजीओ मैं नियुक्त प्रदीप बॉबी द्वारा उक्त कैंसर पीड़ित की सहायता हेतु प्रेम गंगा अस्पताल में पुनः बात की गई और उनके द्वारा मांगे गए समस्त कागजातों की पूर्ति की ग ई।

आज 17 मई को ऋषिकेश पुलिस के अथक प्रयासों के पश्चात उक्त कैंसर पीड़ित की कोविड रिपोर्ट नेगेटिव आने पर, समस्त कागज तैयार कर हेल्पिंग हैंड एनजीओ की सहायता से वाहन की व्यवस्था कर प्रेम गंगा अस्पताल रायवाला में भर्ती कराया जा रहा है। जहां उपरोक्त पीड़ित को इलाज के साथ-साथ समस्त सेवाएं मुफ्त दी जाएंगी।

“मिशन हौसला” के अंतर्गत कोतवाली ऋषिकेश की त्रिवेणी घाट पुलिस द्वारा पिछले 09 दिनों से उपरोक्त कैंसर पीड़ित की सहायता के लिए जो अथक प्रयास किए गए हैं। उसका स्थानीय लोगों और जनप्रतिनिधि गणों के द्वारा सराहना की गई है।

नाम पता कैंसर पीड़ितकपिल पुत्र श्री भूषण लाल निवासी टीएचडीसी कॉलोनी केदार पुरम थाना नेहरू कॉलोनी देहरादून(आधार कार्ड के अनुसार)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here