उत्तराखंड: चारधाम यात्रा तैयारियों में जुटी पुलिस, DGP ने दिए ये निर्देश

देहरादून: सीएम पुष्कर सिंह धामी ने एक दिन पहले ही चारधाम यात्रा तैयारियों की समीक्षा की थी। समीक्षा के बाद अब पुलिस और दूसरे विभाग भी तैयारी में जुट गए हैं। डीजीपी आशोक कुमान ने चारधाम यात्रा तैयारियों को लेकर बैठक की। उन्होंने सभी जिलों के कप्तान और अन्य अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिए।

ये दिए निर्देश

1. चारधाम यात्रा पर चलने वाले जिन व्यवसायिक वाहनों को परिवहन विभाग द्वारा ग्रीन कार्ड जारी किया गया है, उनके कागजातों की चेकिंग पुलिस नहीं करेगी।

2. निजी वाहनों से चारधाम यात्रा पर आने वाले यात्रियों के वाहनों के कागजात हरिद्वार और देहरादून बार्डर पर ही चेक किये जाएंगे। आगे उनकी बार-बार चेकिंग नहीं की जाएगी।

3. चारधाम यात्रा सीजन के दौरान यात्रा रूट पर यातायात व्यवस्था को सुचारु रुप से संचालित किये जाने के लिए पुलिस उप महानिरीक्षक/निदेशक यातायात मुख्तार मोहसिन को नोडल अधिकारी बनाया गया है।

4. चारधाम यात्रा रुट पर बोटल नेक चिन्हित्त कर परिवहन और लोकनिर्माण विभाग के साथ समन्वय स्थापित करते हुए अधिक से अधिक चेतावनी बोर्ड लगाये जाने के निर्देश दिए गए हैं।

5. ओवर लोडिंग, ओवर स्पीडिंग, रैश/स्टंट ड्राइविंग, नशे की हालत में वाहन चलाने वालों, वाहनों का उपयोग आपराधिक गतिविधियों में करने वालों की चेकिंग और इन पर कार्रवाई की जाएगी।

6. पर्यटन पुलिस चार-धाम यात्रा के दौरान अहम भूमिका निभायेगी। पुलिसकर्मियों को सॉफ्ट स्किल्स, कम्यूनिकेशन स्किल्स का विशेष प्रशिक्षण कराया जाएगा, जिससे पर्यटन पुलिस अतिथि देवो भव भाव से यात्रियों को सुरक्षा व सुविधा प्रदान करने में सक्षम हो।

7. यात्रियों की सुविधा के लिए चारों धामों के कपाट खुलने की तिथि, मार्गों की स्थिति, जाम होने पर उसकी रियलटाइम स्थिति उत्तराखण्ड पुलिस की वेबसाइट और सभी सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर साझा की जाएगी।

8. होमगार्ड एवं पीआरडी के जवानों को विशेष प्रशिक्षण देकर यात्रा मार्गों पर तैनात किया जाएगा।

9. यात्रा मार्गों पर यातायात प्रबन्धन को सर्वाेच्च प्राथमिकता पर रखा जाए। जनपद प्रभारी जिलाधिकारी के साथ समन्वय स्थापित कर अपने-अपने जनपदों में पार्किंग की क्षमता एवं नए पार्किंग स्थलों को चिन्हित करें। साथ ही यात्रा मार्गों पर अस्थायी अतिक्रमण को यथासंभव हटवाएं और उक्त सम्बन्ध में नियमानुसार आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करें।

10. यात्रा रूटों पर यातायात सुचारु रुप से संचालित किये जाने हेतु सभी जनपदों के पुलिस उपाधीक्षक यातायात को व्हाट्सएप ग्रुप बनाने हेतु निर्देशित किया, जिसमें समस्त जानकारी साझा की जाए।

11. आपदा प्रबन्धन हेतु यात्रा मार्गों पर पूर्व से तैनात की गयी एसडीआरएफ की टीमों के अतिरिक्त मोरी, घनसाली और गैरसैंण में एसडीआरएफ टीम तैनात करने का निर्णय लिया गया।

12. जल पुलिस को भी अत्याधुनिक आपदा उपकरणों से लैस किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here