उत्तराखंड : अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट फेल, चार घंटे अटकी रही मरीजों की सांसें 

हरिद्वार : कोरोना काम में ऑक्सीजन की सबसे ज्यादा मांग है. ऑक्सीजन के बिना लोगों की सांसें उखड रही हैं. हालंकि उत्तराखंड में हालत अभी अधिक ख़राब नहीं हैं, लेकिन स्थिति बहुत अच्छी भी नहीं है. ऑक्सीजन के लिए सरकार लगातार प्रयास कर रही है. बावजूद लोगों को दिक्कतों का सामना करना पद रहा है. हरिद्वार जिला अस्पताल में अचानक ऑक्सीजन फेल होने से भर्ती संदिग्ध कोरोना मरीजों की सांसें चार घंटे तक अटकी रहीं। प्लांट फेल होने की सूचना से जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया. आनन फानन सात मरीजों को अन्य अस्पतालों में शिफ्ट किया गया, जबकि एक मरीज ने बाबा बर्फानी कोविड अस्पताल जाने से इनकार कर दिया. गनीमत यह रही कि सभी की हालत स्थिर है.

यह मामला रविवार रात काक बताया जा रहा है हरिद्वार के जिला अस्पताल में भी ऑक्सीजन प्लांट अचानक फेल हो गया. ऑक्सीजन की सप्लाई बंद होने से यहां भर्ती आठ संदिग्ध कोरोना मरीजों की सांसें उखड़ने लगीं. दम घुटने पर मरीजों ने फोन से परिजनों को सूचना दी. सूचना पर अस्पताल में हड़कंप मच गया. ड्यूटी पर तैनात डॉ. चंदन मिश्रा ने स्टाफ की मदद से आठ मरीजों के लिए ऑक्सीजन सिलिंडर की व्यवस्था की.

सीएमओ डॉ. एसके झा को जानकारी दी गई. डीएम सी रविशंकर के निर्देश पर मरीजों को बाबा बर्फानी कोविड हॉस्पिटल में शिफ्ट किया गया. एक मरीज को परिजन भूमानंद हॉस्पिटल ले गए. दो अन्य मरीजों को भी परिजन अपनी सुविधा अनुसार अन्य अस्पताल लेकर गए. एक मरीज ने बाबा बर्फानी अस्पताल जाने से इनकार कर दिया. मरीज ने लिखकर दिया है कि भले ही प्राण चले जाएं, लेकिन वह बाबा बर्फानी नहीं जाएगा. मरीज जिला अस्पताल में ही रहा. हाल्नाकी सोमवार को अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट को फिर से सुचारु कर दिया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here