उत्तराखंड: इलाज में लापरवाही पड़ी भारी, देना होगा 27.47 लाख का हर्जाना

रुड़की : अस्पताल को लापरवाही भारी पड़ी है। जिला उपभोक्ता आयोग में सुरवाई के बाद अस्पताल पर इलाज में लापरवाही के कारण 27.47 लाख का हर्जाना लगाया है। आयोग ने 25 लाख रुपये देने का आदेश दिया है। अधिवक्ता श्रीगोपाल नारसन ने बताया कि आजाद नगर निवासी अनीस के गुर्दे में पथरी होने पर वह तृप्ता अस्पताल में डॉ. अमित सिंह के पास गया। डॉक्टर ने पैथॉलॉजिकल जांच के बाद बताया कि बीस हजार रुपये में चार बार दूरबीन विधि से पथरी निकाल देंगे।

अनीस ने 20 अप्रैल 2020 को उन्हें 20 हजार रुपये दिए। डॉक्टर ने चार बार प्रक्रिया पूरी कर 29 मई 2020 को बताया कि सारी पथरी निकाल गई हैं। अनीस का दर्द बना रहा तो उसने डॉ. विपिन गुप्ता से 19 अगस्त 2020 को अल्ट्रासाउंड कराया। तीन सितंबर 2020 को फिर से जांच में पथरी निकली। उसने 25 सितम्बर 2020 को जिला उपभोक्ता आयोग में शिकायत दर्ज कराई।

जिला उपभोक्ता आयोग के अध्यक्ष कंवर सैन, सदस्य अंजना चड्ढा और विपिन कुमार ने तृप्ता अस्पताल और डॉ. अमित सिंह को चिकित्सा सेवा में लापरवाही का दोषी माना। आयोग ने अस्पताल को एक माह में उपभोक्ता को विभिन्न मदों में कुल 27.47 लाख रुपये अदा करने का आदेश दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here