सरकार ने निकाला बिजली कर्मचारियों की हड़ताल का तोड़, इस राज्य से भर्ती के लिए पहुंचे युवा, टोल फ्री नंबर जारी

देहरादून। बिजली कर्मचारियों ने बुधवार 6 अक्टूबर से हड़ताल का ऐलान किया है। उपभोक्ताओं की किसी तरह की परेशानी ना हो इसके लिए ऊर्जा निगम ने टोल फ्री नंबर जारी कर दिया है। इसी के साथ कर्मचारियों के इस ऐलान के बाद सरकार ने वैकल्पिक कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। राज्य में एक ओर जहां एस्मा लागू किया गया है तो वहीं सरकार ने पड़ोसी राज्य हरियाणा से इंजीनियर बुला लिए हैं। निगम प्रबंधन ने नई भर्तियां भी शुरू की दी हैं।

आपको बता दें कि यूपीसीएल, यूजेवीएनएल और पिटकुट के अधिकारी और कर्मचारियों के संयुक्त मार्चे उत्तराखंड विद्युत-अधिकारी कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा ने पुरानी पेंशन, पुरानी एसीपी व्यवस्था और संविदा कार्मिकों के नियमितीकरण समेत 14 सूत्री मांग को लेकर 6 अक्टूबर से हड़ताल पर जाने की चेतावनी दी है। कई बात सरकार और कर्मचारियों के बीच वार्ता हो चुकी है लेकिन कोई हल नहीं निकला है।

हड़ताल रोकने के लिए सरकार ने उत्तराखंड जल विद्युत निगम प्रशासन ने 189 कार्मिकों को नोटिस जारी कर अनुशासनात्मक कार्रवाई की चेतावनी दी है। मिली जानकारी के अनुसार सरकार ने यूपी, पंजाब, हिमाचल और हरियाणा से इंजीनियर मांगे थे लेकिन केवल हरियाणा से करीब 45 इंजीनियर उत्तराखंड पहुंचे हैं। ये सभी इंजीनियर सोमवार शाम को ही दून पहुंच गए थे। फिलहाल इन्हें शहर के अलग-अलग होटलों में ठहराया गया है। बता दें कि ऊर्जा निगम प्रबंधन ने हड़ताल से निपटने के लिए नई भर्तियां भी शुरू कर दी हैं। ऊर्जा निगम के मुख्यालय उज्जवल भवन में कल से भर्तियां चल रही हैं। बड़ी संख्या में नए युवक इस भर्ती मंें पहुंच रहे हैं।

संदेश जारी

उत्तराखंड पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड (यूपीसीएल) अपने सभी सम्मानित विद्युत उपभोक्ताओं से अनुरोध करता है कि विद्युत संबंधी किसी भी प्रकार की समस्या होने पर सम्मानित उपभोक्ता प्रदेश के किसी भी हिस्से से टोल फ्री नंबर 1912 पर अपनी शिकायत/ सूचना दर्ज करा सकते हैं। ताकि उत्तराखंड पावर कॉरपोरेशन सम्मानित उपभोक्ताओं की विद्युत समस्या का निदान यथाशीघ्र कर सके l उत्तराखंड पावर कॉरपोरेशन का टोल फ्री नंबर 1912 कंट्रोल रूम से जुड़ा है तथा यह कंट्रोल रूम लगातार 24 घंटे कार्य करता रहता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here