यूपी से बीजेपी सांसद को उत्तराखंड में दबंगई करनी पड़ी भारी, मुकदमा हुआ दर्ज

यूपी के आंवला सीट से भाजपा सांसद धर्मेंद्र कश्यप को उत्तराखंड के जागेश्वर धाम में दबंगई करन भारी पड़ी. बता दें कि उन्होंने जागेश्वर धाम के पुजारियों के सिथ पूजा करने को लेकर अभद्रता की। साथ ही गालियां दी थी जिसके बाद उन पर मुकदमा दर्ज कराया गया है. वहीं बता दें कि यह मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है। पूर्व सीएम हरीश रावत मामले को लेकर धरने पर बैठेंगे.

वहीं हल्द्वानी तक कांग्रेसियों ने धरना-प्रदर्शन किया। मंदिर प्रबंधक से गालीगलौज व धक्कामुक्की मामले में पुजारी भी भड़के हुए हैं। पुजारियों के विरोध पर पुलिस ने आंवला सासंद के खिलाफ रविवार शाम आखिरकार मंदिर प्रबंधक की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर दिया गया।

आपको बता दें कि मामला शनिवार शाम का है। आंवला से भाजपा सांसद धमेंद्र कश्यप, उनके साथी मोहन राजपूत व सुनील तायल जागेश्वरधाम पहुंचे। ये लोग दर्शन के लिए अक्सर आते रहते हैं। सांसद व उनके सहयोगियों को बता दिया गया था कि कोविड-19 नियमों के तहत सायं छह बजे बाद पूजा नहीं होगी। पुजारियों के अनुसार सांसद कश्यप ने पूजा कर ली थी और फिर मंदिर से बाहर आने के बजाय इधर उधर घूमते रहे। बाहर जाने को कहने पर उन्होंने खुद को भाजपा सांसद बता हनक दिखाई।
बाहर मौजूद अन्य श्रद्धालु भी कश्यप को देख पूजन के लिए मंदिर में प्रवेश की जिद करने लगे। तब प्रबंधक ने सांसद कश्यप से छह बजने व मंदिर का गेट बंद किए जाने की बाध्यता बताई। इस पर कश्यप भड़क उठे। प्रबंधक भगवान भट्ट से सांसद व दो अन्य साथियों ने बहस, धक्कामुक्की व गालीगलौज शुरू कर दी। पुजारियों व मौजूद श्रद्धालुओं ने अभद्रता कर रहे सांसद का वीडियो बना लिया जो वायरल भी हो गया। इस बीच स्थानीय लोगों व पुजारियों ने सांसद को घेर लिया। मंदिर में क्षमा याचना को कहा तो किसी तरह सांसद शाम करीब साढ़े छह बजे वाहन में बैठ खिसक लिए। वहीं, कश्यप ने प्रबंधक भट्ट पर गर्भगृह के दर्शन के लिए 1000 रुपये सुविधाशुल्क मांगने का आरोप लगाया।
इधर रविवार को पूरे मामले में आक्रोश पनप गया। जिन्हें पता नहीं था वह भी वायरल वीडियो देख सांसद के खिलाफ उतर आए। इंटरनेट मीडिया पर भी वायरल वीडियो पर लोग तीखी प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

इस मामले पर जागेश्वर मंदिर प्रबंधन समिति के उपाध्यक्ष गोपाल रावत का कहना है कि मंदिर परिसर भक्ति के लिए है और परिसर में शांतिपूर्ण बने रहना एक भक्त के लिए भी जरूरी है। मंदिर परिसर में गालीगलौज की घटना अत्यंत निंदनीय है। सांसद का ऐसा व्यवहार नहीं हो सकता है।भक्त को इतना विनम्र होना चाहिए कि वह उनका आशीर्वाद स्वीकार कर सके। कोई भी मंदिर के कर्मचारियों को आतंकित नहीं कर सकता।

इस मामले पर एसडीएम मोनिका का कहना है कि जागेश्वर मंदिर प्रबंध समिति के प्रबंधक भगवान भट्ट की तहरीर पर धर्मेंद्र कश्यप व उनके साथियों के खिलाफ धारा 504 व 188 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है। आरोपों के आधार पर विवेचना शुरू कर दी गई है। जांच पूरी होने के बाद ही अग्रिम कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here