उत्तराखंड में गजब हो गया : कोतवाल को ही बुद्धू बना गया शख्स, ठग लिए 2.59 लाख रुपये

देहरादून। देहरादून समेत उत्तराखंड में ठगी के मामले बढ़ते जा रहे हैं। पुलिस लगातार सोशल मीडिया के जरिए लोगों से ठगों के जाल में ना फंसने और सतर्क रहने की अपील कर रही है। लेकिन बता दें कि ठगों के जाल में खुद पुलिस अधिकारी कर्मचारी फंस रहे हैं। आज कल बैंक लोन, ओटीपी, एटीएम कार्ड और बैंक खाता अपडेट कराने के नाम पर ठगी की जा रही है। पुलिस लगातार जनता से जागरुक और सतर्क रहने की अपील कर रही है लेकिन इसके जाल मं खुद पुलिस भी फंसती नजर आ रही है।

जी हां ताजा मामला चंपावत का है जहां जमीन दिलाने के नाम पर चंपावत के कोतवाली प्रभारी से दो लाख 59 हजार रुपये की ठगी को अंजाम दिया गया।बता दें कि देहरादून शहर कोतवाली पुलिस ने आरोपित, उसकी पत्नी और बेटे के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। आरोपितों ने फर्जी पावर आफ अटार्नी दिखाकर किसी और की जमीन का सौदा कर दिया था।

चंपावत कोतवाली प्रभारी शांति कुमार ने शहर कोतवाली में तहरीर देते हुए बताया कि उनकी पत्नी ने साल 2010 में हरिद्वार रोड स्थित एक आवासीय भूमि राजपाल सिंह से खरीदी थी। तब राजपाल सिंह ने बताया था कि जमीन ब्राह्मणवाला निवासी सलीम के नाम पर है, जिसने पावर आफ अटार्नी उसके नाम पर ट्रांसफर करवाई है। जमीन का सौदा राजपाल सिंह उसकी पत्नी पदमा और बेटे अंकित ने किया था। कचहरी के पास आरोपितों ने पीड़ित की पत्नी रेखा से जमीन के बदले एडवांस में दो लाख, 59 हजार रुपये ले लिए। कोतवाल शांति कुमार ने पुलिस को बताया कि जब उन्होंने दस्तावेजों की जांच करवाई तो पता चला कि जमीन राजपाल सिंह के नाम दर्ज नहीं है।

बताया कि उन्होंने सब रजिस्ट्रार कार्यालय से पावर आफ अटार्नी की प्रतिलिपी निकलवाई तो उसमें भूमि के मालिक के स्थान पर किसी अन्य व्यक्ति का फोटो लगा हुआ था, जो कि 28 जनवरी 2010 को फर्जी तरीके से राजपाल सिंह ने सब रजिस्ट्रार कार्यालय में दर्ज कराई है मामले की जांच कर रहे एसएसआइ शहर कोतवाली कुलवंत सिंह ने बताया कि फिलहाल धोखाधड़ी के इस मामले में मोहितनगर, जीएमएस रोड निवासी राजपाल सिंह, उसकी पत्नी पदमा और बेटे अंकित के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here