हरिद्वार की कलियर और भगवानपुर पुलिस को बड़ी सफलता, 2 बड़े मामलों का किया खुलासा

रुड़की की कलियर और भगवानपुर पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी है। अलग अलग थानों की पुलिस ने दो बड़े खुलासों के साथ कई आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा है। रुड़की स्थित एसपी देहात कार्यालय पर एसपी देहात परमेन्द्र सिंह डोभाल ने दोनों घटनाओं का खुलासा करते हुए पुलिस टीम की पीठ थपथपाई हैं।

एसपी देहात परमेन्द्र सिंह डोभाल ने बताया कि पवन कुमार पांजियारा पुत्र बसंत पांजियारा हाल निवासी भगवानपुर ने पुलिस को बताया कि उनका बचत खाता भगवानपुर एचडीएफसी बैंक शाखा में है, उनके पास एक अज्ञात व्यक्ति का फोन आया जिसने बताया कि उनका कोरियर आया है और उसके लिए 5 रुपए ऑनलाइन भेजने पड़ेंगे। फोन करने वाले ने पवन से एटीएम की डिटेल ली और ओटीपी बताने के लिए कहा जब उन्होंने ओटीपी नहीं बताया तो उसके खाते से एक-एक लाख रुपए दो बार करके दो लाख रुपए कट गए। जिसके बाद पवन ने पूरे मामले की जानकारी भगवानपुर थाना पुलिस को दी।

थाना अध्यक्ष पीडी भट्ट ने मुकदमा दर्ज कर आला अधिकारी को अवगत कराया अधिकारियों के निर्देशानुसार भगवानपुर थानाध्यक्ष पीडी भट्ट के नेतृत्व में अलग-अलग टीमों का गठन किया गया, पुलिस ने इस प्रकार के अपराध करने वाले गैंग का डाटा इकट्ठा किया। जिसमें रमजान अली पुत्र मोमी रहमान निवासी पूर्वी दुल्लापुर थाना ईट आहार जिला उत्तर दिनारपुर पश्चिम बंगाल व संजय मंडल पुत्र धूलापद मंडल निवासी पोस्ट पूर्वी देवधर थाना रामदीघी जिला परगना दक्षिण पश्चिम बंगाल को अलग-अलग बैंकों के एटीएम कार्ड एवं मोबाइल फोन के साथ कलियर स्थित पार्किंग ग्राउंड से गिरफ्तार किया।

आरोपियों ने पुलिस पूछताछ में बताया कि उनके गैंग को ऑपरेट करने वाला व्यक्ति जो कि पश्चिम बंगाल में रहता है। हम दोनों लोग गरीब और अनपढ़ लोगों को पैसों के लालच देकर खाता खुलवाते हैं और प्रति खाते के 3000 देते हैं, और एटीएम का पासबुक अपने पास लेने के बाद मास्टरमाइंड अकबर को दे देतें हैं, अकबर उन्हें प्रति खाते के 4 हजार रुपए देता है। और जब उन खातों में लेनदेन होता है तो पैसे देता रहता है आरोपियों ने बताया कि आज तक करोड़ो का लेनदेन इस प्रकार के 200 खातों में हो चुका है। इस बड़ी सफलता पर एसपी देहात ने पुलिस टीम की पीठ थपथपाई है।

वही दूसरी ओर कलियर थाना पुलिस ने लूट की घटना को अंजाम देने वाले चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों के पास से लूटा गया मोबाइल और घटना में इस्तेमाल की गई बाइक व तमंचा बरामद किया है।आरोपी लूट की घटना को अंजाम देने के लिए किराए की कार लेकर आए थे और घटना में चोरी की मोटरसाइकिल का भी इस्तेमाल किया गया था।

घटना का खुलासा करते हुए एसपी देहात परमेन्द्र सिंह डोभाल ने बताया कि 7 जनवरी 2022 को नौशाद पुत्र बशीर निवासी ग्राम तेलीवाला ने पुलिस को तहरीर देकर बताया कि 6 जनवरी की रात मोटरसाइकिल सवार अज्ञात बदमाशों द्वारा उसे व उसके दोस्त को तमंचा दिखाकर मोबाइल फोन 10000 रुपए की नकदी लूट ली थी। घटना के खुलासा के लिए पुलिस टीम का गठन किया गया 26 फरवरी 2022 को मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने अंकित पुत्र ओमप्रकाश निवासी मोहल्ला ढाका थाना गंगोह जनपद सहारनपुर, शालू खान पुत्र सलीम निवासी गंगोह को गिरफ्तार किया है। जिनके कब्जे से लूटा गया मोबाइल घटना में इस्तेमाल की गई मोटरसाइकिल बरामद हुई। इसके साथ ही रवि पुत्र धन प्रकाश उर्फ कालू निवासी मोहल्ला टकान गंगोह, मोनू कुमार प्रदीप कुमार निवासी उपरोक्त को धनौरी स्थित तिरछा पुल के समीप से गिरफ्तार किया है। उनके पास से घटना में इस्तेमाल किया गया तमंचा लूटा गया फोन और कारतूस बरामद हुए है।

पूछताछ के दौरान उन्होंने बताया कि वह अपने घर से हरिद्वार राजा बिस्कुट चौक के समीप जन सेवा केंद्र को लूटने आए थे जिसके लिए उन्होंने किराए की सेंट्रो कार ली थी लेकिन वह जन सेवा केंद्र को नहीं लूट पाए। उसी शाम सिडकुल से वापस लौटते समय बहादराबाद पीठ बाजार से सानू और मोनू ने एक मोटरसाइकिल स्प्लेंडर चोरी की और बाइक अंकित व रवि को दे दी और रास्ते में बाइक सवार दोनों युवकों ने लूट की घटना को अंजाम दे दिया और पैसे को आपस में बांट लिए। आरोपियों के खिलाफ सहारनपुर जिले के विभिन्न थानों में मुकदमे दर्ज है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here