विधानसभा बैकडोर भर्ती: हरीश रावत ने पूछा, नियुक्ति देने वालों के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं?

HARISH RAWATउत्तराखंड में बैक डोर इंट्री के मसले पर हरीश रावत ने बड़ा निशाना साधा है। ये निशाना कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल पर साधा है। इसके साथ ही हरीश रावत ने विधानसभा में बड़े पैमाने पर नियम विरुद्ध नियुक्तियां पाए लोगों के अब भी कार्यरत होने का इशारा किया है।

हरीश रावत ने अपनी सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा है कि, विधानसभा से बर्खास्त कर्मचारियों की एसएलपी के खारिज होने पर मुख्यमंत्री जी अपनी पीठ ठोक रहे हैं। वह उत्तराखंडी का स्वभाव है, जहां भी उसको नौकरी मिलेगी, नौजवान वहां पर टूट पड़ेगा।

हरीश रावत आगे लिखते हैं कि विधानसभा में 2001 से भर्तियां हो रही हैं उनकी क्या गलती है, जिन्होंने उन नौकरियों को प्राप्त कर लिया? और यदि गलती है भी तो केवल क्या उन्हीं की गलती है? विधि विहीन नौकरी देने वालों की गलती नहीं है या दिलवाने वालों की गलती नहीं है?

प्रेमचंद अग्रवाल पर निशाना साधते हुए हरीश रावत लिखते हैं कि, विधि विहीन नौकरी देने वाला एक व्यक्ति आज भी आपके बगल में महत्वपूर्ण विभागों के मंत्री के रूप में विराजमान हैं और दिलवाने वाले कई लोग, आपके आस-पास होंगे तो केवल नौकरी को ही सब कुछ मानने वाले इन उत्तराखंडी नौजवानों की ही गलती है? उनको ही दंडित होना चाहिए? या ऐसे लोगों की भी निंदा विधानसभा को करनी चाहिए जिन्होंने इस तरीके की नियुक्तियां की हैं या करवाई हैं।

हरीश रावत ने कहा है कि अभी तो 2016 से पहले की ऐसी नियुक्तियों के लोग विधानसभा का संचालन कर रहे हैं! यदि नियुक्तियां विधि विरुद्ध हैं तो ऐसे विधि विरुद्ध नियुक्त पाये हुये लोग नियमितीकरण के आड़ में नहीं बच सकते हैं! अपराध कभी भी किया गया हो, उसका दण्ड तो रिटायरमेंट के बाद भी दिया जा सकता है, यदि विधानसभा में नियुक्ति पाना अपराध है तो यह अपराध 2001 से लेकर अभी-अभी तक नियुक्ति पाये प्रत्येक व्यक्ति ने किया है, यहां तो अभी भी लोग सेवारत हैं। क्या विधानसभा में विधि विहीन तरीके से नियुक्त व्यक्ति कार्यरत रहना चाहिए?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here