सुबह सुबह ही भगत दा से गुपचुप मिलने पहुंच गए हरक, वापसी भी पीछे के दरवाजे से

bhagat singh koshiyari and harak singh rawat

 

उत्तराखंड की राजनीति में एक नया घटनाक्रम अंगड़ाई ले रहा है। राज्य के पूर्व कैबिनेट मंत्री और मौजूदा कांग्रेस नेता हरक सिंह रावत और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता भगत सिंह कोश्यारी के बीच मुलाकात हुई है। दोनों के बीच लगभग एक घंटे तक बातचीत हुई है।

बताया जा रहा है कि हरक सिंह रावत रावत सोमवार की सुबह लगभग पौने सात बजे के आसपास देहरादून में महाराष्ट्र के मौजूदा राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मिलने पहुंच गए। दोनों नेताओं के बीच लगभग पौने घंटे के आसपास बातचीत हुई है। इसके बाद साढ़े सात बजे के करीब हरक सिंह रावत भगत सिंह कोश्यारी के घर से निकल गए। हरक सिंह रावत सामने के दरवाजे से नहीं निकले बल्कि पीछे के दरवाजे से होते हुए वो बाहर आए और गाड़ी में बैठकर निकल गए।

दोनों की नेताओं की मीटिंग में क्या बात हुई इस बारे में कोई स्पष्ट जानकारी नहीं मिल पाई है लेकिन बताया जा रहा है कि हरक सिंह रावत ने एक बार फिर दोहराया है कि वो बीजेपी छोड़ना नहीं चाहते थे। राजनीतिक परिस्थितियां ऐसी बनी कि उन्हें फैसला लेना पड़ा।

आपको बता दें कि हरक सिंह रावत के घर पर सोमवार की दोपहर कांग्रेस के कुछ विधायकों की बैठक भी हुई थी। इस बैठक में प्रीतम सिंह के साथ ही भुवन कापड़ी और कुछ अन्य नेता शामिल थे। इस बैठक के बाद हरक सिंह ने बयान दिया कि मौजूदा समय में विपक्ष अपनी भूमिका आक्रामक रूप से नहीं निभा रहा है।

वहीं कोश्यारी और हरक के बीच की मुलाकात को सामान्य मुलाकात नहीं माना जा सकता है। राजनीतिक जानकारों की माने तो हरक सिंह रावत की सक्रियता बहुत कुछ कहती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here