धोखे से अपने खाते में किए करोड़ों रुपये ट्रांसफर, IIT रुड़की में था सीनियर असिस्टेंट क्लर्क

हरिद्वार एसएसपी ने आज एक साथ दो मामले के खुलासे किए हैं. बता दें कि पहला मामला छात्र की हत्या से जुड़ा है। बता दें कि मंगलौर पुलिस ने छात्र की हत्या के आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है जिसका हत्यारा उसका साथी ही निकला। वहीं बता दें कि दूसरा मामला आइआइटी रुड़की में एक करोड़ रुपए से ज्यादा का गबन करने का है।

कोतवाली पुलिस ने एक कर्मचारी को गिरफ्तार किया है। मामले का खुलासा एसएसपी योगेंद्र सिंह रावत ने किया है।जानकारी मिली है कि आरोपित धीरज कुमार उपाध्याय मूल रूप उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले के पटेरहा थाना का रहने वाला है। वर्तमान में वो रुड़की के भंगेड़ी गांव में रह रहा था। बता दें कि मुकदमा दर्ज होने के बाद से ही वो फरार था। पुलिस को उसकी तलाश थी। वो आज पुलिस के हत्थे चढ़ा।

एसएसपी ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि आरोपी आइआइटी डीन ऑफिस में सीनियर असिस्टेंट क्लर्क के पद पर तैनात था। आऱोपी 2017 से संस्थान की धनराशि अपने खाते में ट्रांसफर कर रहा था। पुलिस ने जांच में उसके खाते से 20 लाख रुपए जमा पाए जिन्हें होल्ड करवा दिया गया है।

गौर हो कि 11 दिसंबर 2020 को आइआइटी के कर्मचारी प्रशांत गर्ग ने पुलिस को तहरीर सौंपी थी और शिकायत की थी कि उनके संस्थान के एक कर्मचारी धीरज उपाध्याय ने बैंक खातों में धोखाधड़ी कर 13 बैंक की ट्रांजैक्शन किए और 1 करोड़ 5 लाख 35 हजार 753 हजार का गबन किया। बताया कि सारे पैसे उसके खाते में ट्रांसफर किए गए हैं। तहरीर के आधार पर सिविल लाइन कोतवाली पुलिस ने संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज किया था। सिविल लाइन कोतवाली पहुंचे डीआइजी डा. योगेंद्र सिंह ने बताया कि आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here