कांग्रेस में फिर गुटबाजी आई सामने : प्रीतम सिंह और हरदा के समर्थकों के बीच चले लात-घूंसे

 

देहरादून : बीते दिन कांग्रेस हाईकमान ने उत्तराखंड में कांग्रेस की जीत के लिए और कांग्रेस को सत्ता में लाने के लिए एक टीम तैयार की और टीम में शामिल नामों का ऐलान किया। एक तरफ पार्टी मिलजुल कर चलने और 2022 में सत्ता मे आने का दावा कर रही है तो वहीं दूसरी तरफ दो दिग्गजों के समर्थकों के बीच गुटबाजी सामने आ रही है। जी हां हम बात कर रहे हैं पूर्व सीएम हरीश रावत और नए नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह की। जिनके समर्थक बीते दिन कांग्रेस भवन के बाहर आपस में भिड़ गए वो भी नारेबाजी को लेकर।

आपको बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रचार समिति के अध्यक्ष हरीश रावत और नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह के समर्थकों में मंगलवार को कांग्रेस भवन के गेट पर नारेबाजी करने को लेकर लात-घूंसे चल गए। दरअसल हुआ यूं की दोपहर करीब साढ़े तीन बजे प्रीतम सिंह को उनके समर्थक युवा कांग्रेस के स्थानीय पदाधिकारी कंधे पर बिठाकर राजपुर रोड स्थित कांग्रेस भवन की ओर नारेबाजी करते हुए आ रहे थे। उसी समय कांग्रेस भवन के गेट के बाहर युवा कांग्रेस हरिद्वार ग्रामीण के पदाधिकारियों ने हरीश रावत जिंदाबाद के नारे लगाना शुरू कर दिए।

प्रीतम सिंह के समर्थक पार्टी कार्यालय के गेट के पास पहुंचे तो हरीश रावत के समर्थक उनके बीच घुसकर नारेबाजी करने लगे। जो की प्रीतम सिंह के समर्थकों को यह नागवार गुजरा। उन्होंने युवा कांग्रेस हरिद्वार ग्रामीण के प्रदेश महामंत्री परवेज आलम और उनके एक दर्जन समर्थकों को पीट दिया। पुलिस ने बीच बचाव कराया तब मामला शांत हुआ। इसके बाद चंद मिनटों बाद प्रीतम सिंह मंच पर पहुंच गए।युवा कांग्रेस नेता विनीत कुमार बंटू और रोबिन त्यागी ने बताया कि कुछ कार्यकर्त्ता जबरन बीच में घुसकर नारेबाजी कर रहे थे। मना करने पर वह जोर-जोर से नारेबाजी करने लगे। जिसके बाद हाथापाई की नौबत आई और झड़प हुई। युवा कांग्रेस में अनुशासन तोड़ने वालों को बख्शा नहीं जाएगा।

हो ना हो या कोई कुछ भी कहे..कांग्रेस की गुटबाजी कभी ना कभी, किसी ना किसी रुप में सामने आ ही जाती है। हरदा प्रीतम के बीज रार साफ देखी जा सकती है। दोनों एक साथ बहुत कम ही नजर आते हैं और नजर आ भी जाएं तो एक दूसरे से नजरें भी चुराते हैं। ऐसे में कांग्रेस कैसे 2022 की जीत को हासिल करेगी और पार्टी हाईकमान और उत्तराखंड कांग्रेस जाने।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here