उत्तराखंड VIDEO : भाजपा में फिर तकरार, ढैंचा पहुंचा गधे तक, देखिए त्रिवेंद्र ने इशारे-इशारे में किसे कहा गधा?

देहरादून : उत्तराखंड में सियासी माहौल गर्माया हुआ है। भाजपा से लगातार ऐसे मामले सामने आ रहे हैं जिससे भाजपा संगठन की जमकर किरकिरी हो रही है। पहले विधायक उमेश काऊ का मामला फिर विनोद चमोली और अब हरक और त्रिवेंद्र के मामले से पार्टी भी असहज महसूस कर रही है। वहीं दूसरी ओर विपक्ष को भी बैठे बैठाए भाजपा पर हमला करने का मुद्दा मिल रहा है। हरक सिंह रावत के बयान से पहले ही उत्तराखंड की राजनीति मेें भूचाल मचा हुआ है तो वहीं आज पूर्व सीएम त्रिवेंद्र रावत ने बयान से मानो भूकंप सा आ गया हो।

पूर्व सीएम त्रिवेंद्र रावत का बयान

जी हां बता दें कि पूर्व सीएम त्रिवेंद्र रावत ने आज बुधवार को दिए अपने बयान में कहा कि हमारे यहां कहते हैं कि गधा ढैंचा ढैंचा करता है।त्रिवेंद्र रावत के इस बयान से एक बाऱ फिर से भाजपा और उत्तराखंड की राजनीति में सियासी भूचाल आ गया है।

हरक सिंह ने दिया था ये बयान

गौर हो कि बीते 3 दिन पहले ही कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत ने ढैंचा बीच घोटाले को लेकर बड़ा बयान दिया था। कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत ने पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से जुड़े ढैंचा बीज मामले पर बयान देकर सियासी हलचल पैदा की थी। हरक सिंह रावत ने कहा था कि अगर हरीश रावत सरकार के दौरान मैं त्रिवेंद्र रावत को ना बचाता तो त्रिवेंद्र रावत जेल में होते और वो ना सीएम बनते। कहा कि मुझे उस वक्त हरीश रावत ने कहा था कि तू सांप को दूध पिला रहा है। जबकि हरीश रावत ने ऐसे किसी मामले के होने से साफ इंकार किया है। हरीश रावत ने कहा कि त्रिवेंद्र पर ऐसा कोई मामला और कोई आरोप नहीं है। और रही बात मेरे होने की, उस वक्त तो मैं एम्स में भर्ती था और जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ रहा था।

हरक सिंह रावत के बयान पर तीखा पलटवार

मीडिया द्वारा हरक सिंह रावत के बयान को लेकर सवाल पूछे जाने पर त्रिवेंद्र रावत ने हरक के बयान पर तीखा पलटवार किया। पूर्व सीएम त्रिवेंद्र रावत ने कहा कि हमारे यहां कहते हैं कि गधा ढैंचा ढैंचा करता है। अब त्रिवेंद्र सिंह रावत ने किसको गधा कहा है, यह समझने वाले समझ रहे हैं और चुटकी भी ले रहे हैं। देखने वाली बात ये होगी कि अब त्रिवेंद्र रावत के बयान पर हरक सिंह रावत अपनी क्या प्रतिक्रिया देते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here