उत्तराखंड में बजा चुनावी बिगुल, 2017 में दो-दो सीटों से हारे थे हरदा, भगवा हुआ था पहाड़, 2022 में किसकी बनेगी सरकार?

देहरादून : उत्तराखंड में चुनावी बिगुल बज चुका है। पीएम मोदी से लेकर राजनाथ सिंह, गृह मंत्री अमित शाह से लेकर कई दिग्गज उत्तराखंड आए और चुनावी बिगुल फूंक गए। साथ ही सीएम धामी को एक बार और मौका देने की अपील कर गए। वहीं आप की ओर से दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और मनीष सिसोदिया उत्तराखंड आए और चुनावी बिगुल फूंक गए। कांग्रेस में राहुल गांधी जोश भर गए। प्रियंका गांधी का दौरा कोरोना के कारण रद्द कर दिया गया।

वहीं आज इलेक्शन कमीशन की पीसी चल रही है जिसमे चुनाव तारीख का ऐलान होगा और साथ ही आचार संहिता राज्य में लग जाएगी। इससे पहले नजर डालते हैं उत्तराखंड के 2017 के विधानसभा चुनाव में जिसमे भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस को क्लीन स्वीप कर दिया है. 70 सीटों वाली उत्तराखंड में बीजेपी ने 57 सीटें जीतीं थी वहीं कांग्रेस की झोली में 11 सीटें आई थी। हालांकि सरकार ने तीन सीएम बदले और अब कमान सीएम पुष्कर सिंह धामी संभाल रहे हैं।

दो सीटों से हार गए थे पूर्व सीएम हरीश रावत

तत्कालीन सीएम हरीश रावत ने विधानसभा चुनाव में करारी हार के बाद राज्यपाल केके पाल को इस्तीफा दे दिया था। इस्तीफे के बाद सीएम हरीश रावत ने सहयोग करने के लिए प्रदेश की जनता का धन्यवाद दिया था। नई सरकार आने तक हरीश रावत कार्यवाहक मुख्यमंत्री बने रहे। और फिर सत्ता में बहुमत से भाजपा आई। बीजेपी की ऐसी आंधी चली कि खुद पूर्व सीएम हरीश रावत हरिद्वार ग्रामीण और किच्छा दोनों विधानसभा क्षेत्रों से चुनाव हार गए थे.

पिछले साल 15 फरवरी को हुआ था मतदान

74 लाख से ज्यादा मतदाताओं ने चुनाव में खड़े 628 प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम में बंद की थी. 2017 में प्रदेश में 35,78,995 महिला मतदाताओं समेत कुल 74,20,710 मतदाताओं ने मतदान किया था और 628 प्रत्याशियों का भाग्य का फैसला कि.या था। पिछले साल 15 फरवरी को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान हुआ था वो भी कुल 68 फीसदी.

इस बार किसकी सरकार बनेगी. आप अपनी राय जरुर कमेंट बॉक्स में दें।

LIVE UPDATE

आपको बता दें कि ईसी ने घोषणा की है कि उत्तराखंड में एक चरण में चुनाव होंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here