डीजीपी ने एसएसपी से पूछा, एसएसपी ने थानेदार से…

dgp ashok kumar and janmejay khanduri

 

देहरादून में एक हफ्ते पहले राजधानी देहरादून में एक ही दिन में भरी दोपहर में एक के बाद एक चेन स्नेचिंग की पांच वारदातों को अंजाम दिया गया। हैरानी ये कि ये वारदातें शहर के अलग अलग हिस्सों में हुईं और हमारी पुलिस कोई करिश्मा नहीं कर पाई। अब जब इन वारदातों को एक हफ्ते बीत चुके हैं तो भी पुलिस इन मामलों का खुलासा नहीं कर पाई है।

इन वारदातों के बाद पुलिस पर सवाल उठने लगे थे। लिहाजा खुद डीजीपी अशोक कुमार ने भी इस मसले में अपने मातहतों को टाइट किया। अशोक कुमार ने देहरादून के एसएसपी जन्मेजय खंडूरी, एसपी सिटी, एसपी क्राइम समेत कई अन्य अधिकारियों से इन वारदातों को लेकर नाराजगी जताई। डीजीपी ने जल्द खुलासे के निर्देश दिए साथ ही पुलिसिंग में हुई खामियों को दुरुस्त करने के निर्देश भी दिए।

इसका असर सिर्फ इतना हुआ कि एसएसपी ने वारदातों वाली जगहों के थानेदारों की क्लास लगी दी। उन्हें अल्टीमेटम दे दिया गया।

अब जब एसएसपी का अल्टिमेटम भी बीत चुका है और थानेदारों की कुर्सी भी सलामत है तो फिर सवाल पूछा जाएगा कि चेन स्नेचिंग की वारदातों के खुलासे का क्या हुआ?

फिलहाल खबरें हैं कि पुलिस को संदिग्धों के हुलिए के बारे में जानकारी मिल चुकी है और जल्द ही गिरफ्तारी हो जाएगी।

स्मार्ट सिटी के कैमरे कहां थे?

दिलचस्प ये है कि शहर के बड़े हिस्से में स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत सड़कों पर कैमरे लगाए गए हैं। इन कैमरों से निगरानी के लिए बाकायदा एक पूरा महकमा काम कर रहा है। सवाल ये है कि क्या चार घंटे तक शहर के अलग अलग हिस्सों में बदमाश घूम घूम कर चेन स्नेचिंग की वारदातों को अंजाम देते रहे और स्मार्ट सिटी के कैमरों के जरिए न उनकी कोई मूवमेंट ट्रेस हो पाई?

फिलहाल देहरादून की जनता को इंतजार है कि जल्द ही इन वारदातों का खुलासा हो जाएगा और गुनहगार पकड़े जाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here