देहरादून : नाराज हुईं मुख्य विकास अधिकारी नितिका खण्डेलवाल, अफसरों को दिए निर्देश

देहरादून : ऋषिपर्णा सभागार में मुख्य विकास अधिकारी नितिका खण्डेलवाल की अध्यक्षता में जून 2021 त्रैमास की जिलास्तरीय समीक्षण/जिला सलाहकार समिति की बैठक आयोजित की गई। बैठक के दौरान मुख्य विकास अधिकारी नाराज हो गईं।

मुख्य विकास अधिकारी ने की नाराजगी व्यक्ति

बैटक में सीडीओ ने बैकों के ऋण जमा अनुपात की स्थिति 34 से बढ़ाकर हरहाल में 40 तक बढ़ाने के निर्देश बैंकर्स को दिए गए। उन्होंने बैंकर्स को क्रेडिट कैम्प का आयोजन प्रत्येक शाखा में कराये जाने के निर्देश दिए। उन्होंने सभी बैकों को कार्ययोजना बनाकर लोगों को लाभान्वित कराये जाने पर बल दिया। इस दौरान वार्षिक ऋण योजना 2020-21 के अन्र्तगत त्रिमास जून 2021 तक हुई प्रगति ही समीक्षा की गई. समीक्षा के दौरान प्रगति कम पाये जाने पर नाराजगी व्यक्त की।

बीमा योजनाओं से काश्तकरों को लाभान्वित कराये जाने के निर्देश

बैठक में केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी बीमा योजनाओं से काश्तकरों को लाभान्वित कराये जाने के निर्देश दिए गये। इसके अतिरिक्त भारत सरकार द्वारा आयोजित मुद्रा योजना के तहत अधिकतम रु10 लाख के ऋण दिए जाने का प्राविधान है योजनान्र्तगत शिशु, किशोर एवं तरूण तीनों रूपों को परिभाषित किया गया है। बैंक में प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के साथ ही अटल पेंशन योजना के लाभार्थियों को निर्गत पेन्शन सम्बन्धी योजनाओं की समीक्षा की गई। बैठक में प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना अन्र्तगत चयनित लाभार्थियों के आवेदन ऑनलाइन कराने के साथ ही इनके निस्तारण की प्रक्रिया विभाग के बेव पोर्टल पर ई-ट्रेकिंग विधि से कराये जाने के निर्देश दिए गये।

बैठक में प्रधानमंत्री स्वरोजगार योजना के अन्र्तगत आवेदक को मार्जिनमनी अनुदान दिया जाता है जिसके लिए जिलास्तर पर जिला उद्योग केन्द्र द्वारा कार्ययोजना बनाई जा रही है। जिसके तहत आगामी 9 सितम्बर को सर्वेचैक स्थित आईटीडीए में मुख्यमंत्री स्वरोजगार कैम्प आयोजित किया जायेगा। बैठक में स्पेशल कम्पोनेंट प्लान के तहत बहुउददेशीय वित्त एवं विकास निगम के अन्र्तगत एससी/एसटी लाभार्थियों को ऋण दिए जाने के लिए अधिकाधिक आवदेन प्राप्त किये जाएं।

बैठक में वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली पर्यटन एवं स्वरोजगार योजना के अन्र्तगत पर्यटन को बढ़ावा देने हेतु पर्यटकों को मूलभूतसुविधाएं उपलब्ध कराकर स्थानीय लोगों के लिए स्वरोजगार के अवसर बढ़ाये जाएं. इस दौरान राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के अन्तर्गत प्राप्त आवेदनों को यथा समय स्वीकृत कर पात्र व्यक्तियों को लाभान्वित किया जाएं। इसके अतिरिक्त राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन, प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना की समीक्षा की गई।

बैठक में किसान कैडिट कार्ड योजना के तहत पशु एवं मत्स्य पालन करने वाले ग्रामीणों-किसानों को किसान कैडिट कार्ड उपलब्ध कराये जाएं। मौसम आधारित फसल बीमा योजना-प्रधानमंत्री कृषि विकास बीमा योजना के अन्र्तगत कृषकों को अनिवार्य रूप से आच्छादित करने के निर्देश बैंकर्स को दिए। इस दौरान बीसी की स्थिति एवं सर्टिफिकेशन व डीजिटलीकरण की समीक्षा के अलावा ग्राम्य स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान (आर-सेटी का परिपालन, वित्तीय साक्षरता एवं परामर्श केन्द्र की प्रगति व वर्ष 2021-22 के लिए पशुपालन, कृषि, उद्यान एवं मत्स्य के लिए नए वित्तमान पर भी चर्चा की गई।

बैठक में वार्षिक ऋण योजना 2021-22 एवं प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना पुस्तिकांओं का विमोचन किया गया। कार्यक्रम का संचालन लीड बैंक मैनेजर अभिषेक कुमार वैश्य द्वारा किया गया। बैठक में आरबीआई के विकास त्यागी, नाबार्ड के कृष्ण सिंह, बीओआई के वरिष्ठ प्रबंधक तनुजा जोशी, पीएनबी के हिमांशु घिल्डियाल, एसबीआई के नन्द किशोर, महाप्रबंधक जिला उद्योग केन्द्र शिखर सक्सैना, मुख्य कृषि अधिकारी विजय देवराड़ी, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डाॅ. एसबी पाण्डे समेत विभिन्न बैंकों के प्रबंधक एवं विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here